संस्मरण

दबंगई महत्ता

ऐसे कई सारे ‘पदाधिकारी’ (Officers) हैं, जो या तो सचमुच में  जानकारीविहीन हैं या अभी भी सामंतों की तर्ज पर व राजे-रजवाड़े की तरह दूसरे की बात सुनना पसंद नहीं करते हैं! ऐसे चिरंजीवी ऑफिसर्स माननीय हाई कोर्ट की नोटिस के बारे में भी जानते तक नहीं कि किसप्रकार के नोटिस का क्या अर्थ होता है!
किसी चिट्ठी का तामिला क्या होता है, उनसे भी वे अनभिज्ञ होते हैं ! ऐसे पदाधिकारी या तो ‘आलसी’ की तरह या ‘दबंग’ की तरह नोटिस को इसतरह लेना चाहते हैं, जैसे- उनके ससुर की दूसरी बार शादी हो रही है और इस शादी का ‘आमंत्रण-पत्र’ ससुराल के ही ‘नाई’ या ‘नाइन’ के मार्फ़त ही प्राप्त हो! ऐसे अधिकारी पर ‘अवमानना’ तो निश्चित ही लगे ! जो तालाब को गंदी करनेवाली ‘पोठी’ मछली है !

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply