गीत/नवगीत

नारी जीवन (रिश्तों का ताना बाना )

नारी जीवन होता शायद कुछ रिश्तों का ताना- बाना
इसके इतर पुरुष-नारी के सम्बन्धों को कब जग माना

त्याग,धरम, अनुशासन, लज्जा बचपन से हर कोई सिखाता
कुछ अपनो की खुशियों खातिर नारी का बचपन मुरझाता
समझ न पाता फिर भी कोई उस के मन का दुखद फ़साना
इसके इतर पुरुष नारी के सम्बन्धों को कब जग माना

बात बनाती क्षण भर को भी गर सखियों के सँग मुस्काती
पुरुष मित्र से मिलकर आती इस जग में कुल्टा कहलाती
पल भर में सौ उँगली उठतीं शक के घेरे में आ जाना
इसके इतर पुरुष नारी के सम्बन्धों को कब जग माना

हर अपने की सेवा करती सबके मन की सुनती जाती
अर्पण करती जीवन अपना पीड़ा अपनी नहीं सुनाती
निज सम्मान गँवाकर पड़ता कुछ कसमों का मोल चुकाना
इसके इतर पुरुष नारी के सम्बन्धों को कब जग माना

नारी जीवन होता शायद कुछ रिश्तों का ताना बाना
इसके इतर पुरुष नारी के सम्बन्धों को कब जग माना।।

— अनामिका लेखिका

परिचय - अनामिका लेखिका

जन्मतिथि - 19/12/81, शिक्षा - हिंदी से स्नातक, निवास स्थान - जिला बुलंदशहर ( उत्तर प्रदेश), लेखन विधा - कविता, गीत, लेख, साहित्यिक यात्रा - नवोदित रचनाकार, प्रकाशित - युग जागरण,चॉइस टाइम आदि दैनिक पत्रो में प्रकाशित अनेक कविताएं, और लॉक डाउन से संबंधित लेख, और नवतरंग और शालिनी ऑनलाइन पत्रिका में प्रकाशित कविताएं। अपनी ही कविताओं का नियमित काव्यपाठ अपने यूटयूब चैनल अनामिका के सुर पर।, ईमेल - anamikalekhika@gmail.com

Leave a Reply