कविता

धनतेरस

आइए!धनकुबेर के नाम
एक दीप जलाते है,
कुबेर जी से आशीष पाते हैं।
धनतेरस से ही दीवाली पर्व की
शुरुआत होती है।
आज हम धन कुबेर जी को मनाते हैं
धन धान्य से भरपूर होने का
सब वरदान चाहते हैं।
आज इस बार हम सब
अपने साथ साथ
दीन हीन असहायों के लिए भी
धन दौलत सुख माँगते हैं।
हे प्रभु!मुझ पर अपनी कृपा बरसाओ
मगर उससे पहले
उन पर भी कृपा करो,
जो गरीब, लाचार असहाय हैं,
उन्हें भी खुशहाल करो
उनकी बदहाली पर तरस खायो,
जन जन पर अपनी
बहुत कृपा बरसाओ।
बस मेरी इतनी सी विनती है
भूख,बेबसी, लाचारी मिटाओ
मेरी पूजा का बस इतना फल दे दो
हर चेहरे पर मुस्कान और
हर झोली में धन भर दो।

परिचय - सुधीर श्रीवास्तव

शिवनगर, इमिलिया गुरूदयाल, बड़गाँव, गोण्डा, उ.प्र.,271002 व्हाट्सएप मो.-8115285921

Leave a Reply