लघुकथा

अब सिर्फ यादें !

उच्च विद्यालय, मनिहारी में सहायक रहे ‘रवि’ की पहली पुण्यतिथि ! नवाबगंज चौक से मनिहारी जाते समय कई बार, फिर दो-चार बार कटिहार जाने के क्रम में उनके बाइक पर उनके पीछे बैठे – बैठे मुझे ऊर्जस्विन ऊष्मा लिए उनके साथ की यात्रा खूब गुदगुदाता था, अब 17 तारीख से ही रुला रहा है । श्री नूर आलम साहब के फेसबुक पोस्ट से ही मैं जान पाया था कि हाईस्कूल, मनिहारी के कार्यालय सहायक व सहकर्मी श्री रवि कुमार इस दुनिया से कूच कर गए हैं … तन और मन में क्रन्दन ही क्रन्दन समा गए । स्व. दीनानाथ मंडल के अत्यंत मृदुभाषी सुपुत्र रवि कुमार की उम्र ही क्या थी ? आनेवाले 30 तारीख को 36 वर्ष पूर्ण करते यानी वे 35 भी पूर्ण नहीं कर पाए ! अब वे यादों में ही मुझे ‘पाल भैया’ कह पाएंगे ! उनकी पहली पुण्यतिथि पर शुभेच्छा लिए यही कहना है, परमशक्ति उनके परिवार को सदैव संबल प्रदान करते रहेंगे !

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply