कविता

जिंदगी की दहलीज

जिंदगी की
दहलीज पर
खड़ा होकर
एक दिन उम्र ने
तलाशी ली
तजुर्बे की जेब से
जो बरामद हुआ
वह लम्हे थे
कुछ ग़म के थे
कुछ नम से थे
कुछ टूटे हुए थे
जो सही सलामत थे
वह बचपन के थे ।
— मनोज शाह ‘मानस’

परिचय - मनोज शाह 'मानस'

सुदर्शन पार्क , मोती नगर , नई दिल्ली-110015 मो. नं.- +91 7982510985

Leave a Reply