अन्य लेख

सच और सच भी !

शिकागो विश्व धर्म महासभा ! भारत तब भी विश्वगुरु था, अब भी है । तारीख 11 सितम्बर 1893 और 2019 में आज की तारीख अमेरिका के शिकागो शहर में पहलीबार संसारभर के प्रायश: धर्मों के विश्व सम्मेलन आयोजित हुए थे, जिनमें ईसाई, इस्लाम, यहूदी इत्यादि के धर्म-प्रतिनिधियों द्वारा अपने-अपने धर्म के पक्ष में जोरदार तरीके से तुरही बजाए जा रहे थे।

इसी बीच अपने परिधान के लिए स्वयं कौतूहल का विषय बने भारत के युवा संन्यासी और दार्शनिक विद्वान स्वामी विवेकानंद ने सनातन (हिन्दू) धर्म पर जो विचार प्रकट किए, वह सभी धर्म-प्रतिनिधियों के मुँह से निःसृत बोली को आगे बजने के लिए बंद कर दिए, यह प्रवचन कई दिनों तक चला । उनसे पहले उन्होंने ‘अमेरिकानिवासी बहनों और भाइयों !’ संबोधित कर अमेरिका वासियों के दिलों को जीत लिया।

××××

मो’हम्मडन दी’दी सिर्फ़ 3 तलाक बंदी के कारण मोदी भाई को नहीं चाहते, अपितु दोनों शब्द के पहले ‘दो’ मिल “मोदी” होते भी हैं !

कुँवारे व कुँवारियों का कहना है, 2020 में वे शादी नहीं करेंगे, क्योंकि दोनों 20 (विष) ही होंगे  और पैदाइश ज़हरीला हो जाएगा ! क्या सच में ?

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply