गीतिका/ग़ज़ल

गजल

चलो  आज सुर  को मिलाते  चलो ना,
खुशी  का  वही  गीत  गाते  चलो  ना।
वतन  के लिए  आज दिन  खास है ये,
चलो साथ  खुशियाँ  मनाते  चलो ना।
अमर  वीर   सैनिक  हमारे   वतन  के,
है वीरों  की   गाथा  सुनाते  चलो  ना।
हो मुश़्किल कोई भी मगर राह चलना,
यूँ  विश्वास   मन  में  जगाते  चलो ना।
जहाँ  से   है  न्यारा ‘किरण’ ये  तिरंगा,
कि जय घोष का स्वर लगाते चलो ना।

— प्रमिला मेहरा किरण

परिचय - प्रमिला मेहरा किरण

वरिष्ठ गीतकार कवयित्री व गजलगो, वरिष्ठ स्वतंत्र लेखिका व स्तम्भकार, 755 वार्ड नं-14, इंद्रा नगर, नया यार्ड, बौद्ध मंदिर के पास, इटारसी-मध्य प्रदेश-461111

Leave a Reply