राजनीति

अंतिम यात्रा : ताशकंद यात्रा

भारतरत्न व पूर्व प्रधानमंत्री “लाल बहादुर शास्त्री” की पुण्यतिथि पर सादर नमन….
भारत के कार्यवाहक PM को अगर आकलित की जाय, तो तीसरे प्रधानमंत्री व भारतरत्न श्रद्धेय लाल बहादुर शास्त्री की पुण्यतिथि व शहीदी तिथि पर सादर नमन और विनम्र श्रद्धांजलि….

‘ताशकंद’ यात्रा में वे 11 जनवरी 1966 को संदेहास्पद स्थिति में अपने बेड पर मृत पाए गए थे। उन्हें ‘ताशकन्द का शहीद’ भी कहा गया है । अपने कार्यकाल में वे किसानों और सेनाओं के लिए कई कार्य किए, उन्होंने नारे दिए– “जय जवान, जय किसान” ।

वे लगभग 18 महीने भारत के प्रधानमंत्री रहे, उनसे पूर्व वे देश के रेल मंत्री भी रहे थे, तो अन्य मंत्रालय के मंत्री भी । आजादी से पूर्व वे देश की स्वाधीनता के लिए 9 माह जेल में भी रहे । प्रथम प्रधानमंत्री श्रद्धेय जवाहरलाल नेहरू की आकस्मिक मृत्यु के बाद वरीय मंत्री “गुलजारीलाल नंदा” 13 दिनों के लिए कार्यवाहक प्रधानमंत्री बने थे, उनके बाद ही शास्त्रीजी प्रधानमंत्री बने। शास्त्रीजी की पुण्यतिथि पर पुनश्च सादर नमन और विनम्र श्रद्धांजलि…..

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply