कविता

एक और कवि सम्मेलन

जेमिनी अकादमी, पानीपत द्वारा स्वामी विवेकानद जयंती के अवसर पर 12 जनवरी 2021 को एक ऑनलाइन कवि सम्मेलन आयोजित किया गया, जिसमें अनेक कवियों-कवयित्रियों ने सोत्साह प्रतिभागिता की. विषय था- स्वामी विवेकानद जयंती. इसमें हमने भी प्रतिभागिता की थी और निम्न कविता भेजी-
12 जनवरी, 2021
विधा- कविता
शीर्षक- जाग युवा जाग

जाग युवा जाग
कि तेरे जागने से देश जगेगा
देश जगेगा
और
हर क्षेत्र में विकास करेगा,
भ्रष्टाचार और दुराचार का
अंधियारा छंटेगा,
भारतीय संस्कृति और सभ्यता का सूरज
सारे संसार को
आलोकित करेगा,
हर क्षेत्र में भारत सबकी अगुआई करेगा.

तुम जानते हो
जब-जब
भारत का युवा जगा है
विवेकानंद का उदय हुआ है
विवेकानंद के घट में
विवेक के आनंद का उदय हुआ है
फिर
विवेकानंद ने
सबको
विवेक के आनंद से परिचित कराया है
भारतीय संस्कृति और सभ्यता से
अखिल जगत को परिचित कराया है.

तुम जानते हो
जब-जब
भारत का युवा जगा है
वीर हकीकत का उदय हुआ है
भगतसिंह का उदय हुआ है
लक्ष्मीबाई का उदय हुआ है
फिर
वीर हकीकत ने
भगतसिंह ने
लक्ष्मीबाई ने
सबको
देशभक्ति के साहस से परिचित कराया है
इसी साहस से उन्होंने
अखिल जगत को साहस का पाठ पढ़ाया है.

तुम जानते हो
जब-जब
भारत का युवा जगा है
आर्यभट्ट का उदय हुआ है
आर्यभट्ट ने
1-10 अंकों
और दशमलव का आविष्कार किया है,
वाराहमिहिर का उदय हुआ है
वाराहमिहिर ने
शून्य का आविष्कार किया है,
सी. वी. रमन का उदय हुआ है
सी. वी. रमन ने
रमन इफैक्ट का आविष्कार किया है,
अंतरिक्ष में जाने वाली प्रथम भारतीय महिला
कल्पना चावला का उदय हुआ है
कल्पना चावला ने
भारतीय अमरीकी अंतरिक्ष यात्री के रूप में
देश का मान बढ़ाया है,
पी. वी. सिंधु का उदय हुआ है
पी. वी. सिंधु ने
ओलम्पिक खेलों में
महिला एकल बैडमिंटन का रजत पदक
जीतने वाली पहली खिलाड़ी के रूप में
देश को सम्मान हासिल कराया है,
लता मंगेशकर का उदय हुआ है
भारत कोकिला लता मंगेशकर ने
गायन के क्षेत्र में
अनुपम कीर्तिमान स्थापित किया है,
होमी जहांगीर भाभा का उदय हुआ है
होमी जहांगीर भाभा ने
परमाणु ऊर्जा संस्थान स्थापित किया है.

जाग युवा जाग
कि तेरे जागने से देश जगेगा
देश जगेगा
और
हर क्षेत्र में विकास करेगा.

इस प्रतियोगिता में जिन कवियों की रचनाएं विषय से संबंधित थीं, उनको डिजिटल सम्मान पत्र भेजा गया. डिजिटल सम्मान पत्र हमें भी भेजा गया. अब ये कविताएं एक पुस्तक के रूप में प्रकाशित होंगी.

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।

One thought on “एक और कवि सम्मेलन

  1. आज स्वामी विवेकानद जयंती है. स्वामी विवेकानद जयंती को राष्ट्र युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है. इस कविता में युवाओं को जागने-जगाने को प्रेरित किया गया है. स्वामी विवेकानद जी का मूलमंत्र था-
    “उत्तिष्ठत जाग्रत प्राप्य वरान्निबोधत ।” अर्थात उठो, जागो और तब तक मत रुको, जब तक मंजिल नहीं मिल जाती.

Leave a Reply