अन्य लेख

सत्य की खोज

‘संविधान’ में अपने देश का नाम भारत और India है, इसके अलावा अन्य किसी पर्यायार्थ नाम का जिक्र नहीं है । भारत से भारतीय का बोध पाते हैं, India से Indian का ।

अगर ‘हिंदुस्तान’ पुकारते हैं, तो स्वभावश: यहाँ के सभी निवासी जो यहाँ रहते हैं, वो ‘हिन्दू’ है ! हिन्दू सब धर्मों का मूल है, जिनकी सात्त्विक संस्कृति संसार में सर्वाधिक पुरानी है । महात्मा गाँधी ने कहा था, ‘सत्य की अनवरत खोज का नाम हिन्दू है।’

देश में एक दिन यानी अपना गणतंत्र दिवस को दिल्ली में शस्त्रास्त्र का परेड होता है । हम हमेशा नहीं, 70 की उम्र में जाकर ही गाँधी बन लाठी उठाते हैं।

हम भारतीय  80 की आयु पार करने पर ही वीर कुँवर सिंह बन तलवार भाँजते हैं, किन्तु ऐसा तब होता है,  जब ‘गीता’ का उपदेश मूढ़-मगज़धारी को समझ में नहीं आता है।

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply