गीतिका/ग़ज़ल

ग़ज़ल

इक जख्म सा सीने में था रात भर रिसता रहा
जिंदगी की दौड़ में मैं ही सदा पिसता रहा
आज जाकर ये लगा कुछ सोच लूँ अपने लिए
हाथ में था अब तलक जो हाथ से गिरता रहा,
हर कसौटी पर जमाने की खरा उतरा हूँ मैं
क्योंकि अब तक सब लकीरें हाथ की घिसता रहा
दौर कितने गम ख़ुशी के संग लायी जिन्दगी
ले हंसी मुस्कान लब पर मैं यूँ ही हँसता रहा
उमर सारी ही लगा दी कर ली सबकी बंदगी
निज ख़ुशी का स्वप्न मेरी आँख में बसता रहा
बेरुखी सबसे मिली टूटा सदा विश्वास था
प्यार सबमें बाँट मन में हौसला भरता रहा
मैं हूँ क्या, क्या चाहतें हैं, जान ले कोई जरा
बस यही एक खबाब मेरी आँख में पलता रहा।।
— अनामिका लेखिका

परिचय - अनामिका लेखिका

जन्मतिथि - 19/12/81, शिक्षा - हिंदी से स्नातक, निवास स्थान - जिला बुलंदशहर ( उत्तर प्रदेश), लेखन विधा - कविता, गीत, लेख, साहित्यिक यात्रा - नवोदित रचनाकार, प्रकाशित - युग जागरण,चॉइस टाइम आदि दैनिक पत्रो में प्रकाशित अनेक कविताएं, और लॉक डाउन से संबंधित लेख, और नवतरंग और शालिनी ऑनलाइन पत्रिका में प्रकाशित कविताएं। अपनी ही कविताओं का नियमित काव्यपाठ अपने यूटयूब चैनल अनामिका के सुर पर।, ईमेल - anamikalekhika@gmail.com

Leave a Reply