कविता

दिल तो कभी मिला नहीं !

महिलाएँ अपने-अपने
‘वो’ को
‘जान’ कहती हैं,
तो ‘वर’ (पति) भी कहती हैं,
यानी घुमा -फिराकर
उस ‘वो’ को ‘जानवर’
कह ही डालती हैं !
••••
होता है
आध्यात्मिक सत्संग
और आते हैं
उद्घाटन को
वैसे ‘नेता’,
आध्यात्मिकता से
दूर तलक
नाता नहीं !
शायद उसने
चंदा जो ज्यादा दिए !
••••
टैलेंट की यहाँ पहचान
कहाँ हो रही है ?
सिरफ़….
सुंदर कपड़े,
मकान, गुंडई
और तमाशा
करनेवाले को ही
लोग पहचान रहे हैं !
••••
मनिहारी, अमदाबाद में
असफल रही
“मानव शृंखला” !
सिर्फ़ आधे घण्टे में
जनता की गाढ़ी कमाई के
करोड़ों राशि
‘सरकारी खजाने’ से फुर्र..
••••
जबतक रहेगा
समाज में ‘जाति’,
रहेगी तबतक भ्रांति;
न हो पाएगी
कोई क्रांति,
फिर अंत तक
नहीं मिलेगी शांति !
••••
बिहार अगर पूर्ण शिक्षित
और पूर्ण रोजगार वाला
राज्य हो जाता,
तो यह उत्साह की बात होती !
द मानव-शृंखला बवंडर !
••••
दिल तो कभी मिला नहीं,
फिर हाथ कैसे मिले ?
मानव-शृंखला में
कई जगह
यूँ ही खड़े थे लोग !

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply