क्षणिका

क्षणिकाएँ

पिघल न जाये गर दिल तो कहना
आँसूओं में मेरे संग संग चलना
मिल जाये गर मुझ जैसा कोई और
जो दिल चाहे सजा मुझे देना
*************
हाथ छुड़ाना तो एक बहाना था
सच तो हमसे मन भर जाना था
निभाई जो प्रीत कृष्ण ने राधा से
इंसानों ने कब प्रेम को जाना था
*************
गुजर गई वो जिंदगी थी
जी रहे हैं वो समझौता है
बिखर गई वो बन्दगी थी
समेट रहे हैं वो संजीदगी है
*******
दुनिया की सारी चीजें बेमानी हैं
जब साथ आपके इश्क़ न हो ।
मिल जाता है सुकून उस पल में
जब हाथ में हाथ एक पल को हो ।
**********
प्रेम तन्हा नहीं करता
प्रेम तौबा नहीं करता
फक्र करता है खुदा भी
उस पर जो प्रेम को
कभी रुसबा नहीं करता
********
ये दुनिया समझती है बात
सिर्फ अपने हक़ की ,
कायनात की सिसकियों से
वो क्योंकर रखे वास्ता ।
**********
शब्द शब्द से मिलकर
बन जाती एक पहेली है
जिंदगी को मत मानो दुश्मन
ये तो एक सहेली है
********
पल पल की सिहरन से
अक्सर दिल भी टूट जाता है
कैसा है ये जीवन का खेला
अपना भी पल में रूठ जाता है
**********
वक़्त की धार में बह जाते हैं
कश्तियों को सहारा देने वाले
तुम काट लेना जिंदगी प्रेम की तलवार से
मैं काट लूँगा जन्मों के इंतजार से ।
वर्षा वार्ष्णेय अलीगढ़

परिचय - वर्षा वार्ष्णेय

पति का नाम –श्री गणेश कुमार वार्ष्णेय शिक्षा –ग्रेजुएशन {साहित्यिक अंग्रेजी ,सामान्य अंग्रेजी ,अर्थशास्त्र ,मनोविज्ञान } पता –संगम बिहार कॉलोनी ,गली न .3 नगला तिकोना रोड अलीगढ़{उत्तर प्रदेश} फ़ोन न .. 8868881051, 8439939877 अन्य – समाचार पत्र और किताबों में सामाजिक कुरीतियों और ज्वलंत विषयों पर काव्य सृजन और लेख , पूर्व में अध्यापन कार्य, वर्तमान में स्वतंत्र रूप से लेखन यही है जिंदगी, कविता संग्रह की लेखिका नारी गौरव सम्मान से सम्मानित पुष्पगंधा काव्य संकलन के लिए रचनाकार के लिए सम्मानित {भारत की प्रतिभाशाली हिंदी कवयित्रियाँ }साझा संकलन पुष्पगंधा काव्य संकलन साझा संकलन

Leave a Reply