क्षणिका

क्षणिका

जली को
अगन कहते हैं
बुझी को
शमन कहते हैं
तन के अंग अंग
मन के कण कण में
बसी उस कर्णधार को
कृष्ण नाथन कहते हैं!
— मनोज शाह ‘मानस’ 

परिचय - मनोज शाह 'मानस'

सुदर्शन पार्क , मोती नगर , नई दिल्ली-110015 मो. नं.- +91 7982510985

Leave a Reply