गीतिका/ग़ज़ल

ग़ज़ल

भले हों कितने मतभेद आपस में सब भूलना है सही
जब बात वतन की तो आपस में लड़ना ठीक नहीं।

अपने स्वार्थ की खातिर क्यों समझोता हो करते,
कुछ गैरों के लिए अपनों को ही छलना ठीक नहीं।

वो ताक में हैं बैठे कब से तुम्हारी बर्बादी देखने को,
उनके इरादों को यूं हवा देकर बढ़ाना ठीक नहीं।

नफरतों के इस दौर की हकीकत तुम समझ लो,
बांट दें जो हमें आपस में ही वो तराना ठीक नहीं।

आओ मिलकर रहना अब सीख लें हम सब यहां,
घर के मुद्दे पे दुश्मन का बातें बनाना ठीक नहीं।

कामनी गुप्ता

परिचय - कामनी गुप्ता

माता जी का नाम - स्व.रानी गुप्ता पिता जी का नाम - श्री सुभाष चन्द्र गुप्ता जन्म स्थान - जम्मू पढ़ाई - M.sc. in mathematics अभी तक भाषा सहोदरी सोपान -2 का साँझा संग्रह से लेखन की शुरूआत की है |अभी और अच्छा कर पाऊँ इसके लिए प्रयासरत रहूंगी |

Leave a Reply