विज्ञान

हमारी पृथ्वी पर जीवन कैसे आया ? सुलझती गुत्थी

‘ हमारी पृथ्वी पर जीवन कैसे आया ? ‘ यह बहुत ही गूढ़ प्रश्न है और उसका उत्तर पाना उतना ही जटिल भी है। प्रश्न है कि क्या पृथ्वी पर जीवन के लिए जरूरी तत्व पहले से उपलब्ध थे, जिससे इस धरती पर ही प्रारम्भिक या आदिम जीवों की उत्पत्ति हुई या वे सूदूर अंतरिक्ष के किसी कोने से किसी छुद्र ग्रह या पुच्छल तारे के द्वारा लाए गए ? यह बहुत उत्सुकता और जिज्ञासा की बात है कि हमारी धरती पर जीवन का विकास कैसे हुआ या कैसे आया ?क्या मंगल ग्रह पर भी अरबों साल पहले जीवन था ?ऐसे अनगिनत गूढ़ सवालों के उत्तर जानने के लिए वैज्ञानिकों की तरफ से विगत काफी समय से लगातार गंभीर प्रयास होते रहे हैं। इस सवाल ने इस धरती के वैज्ञानिकों को भी बहुत ही संशय और भ्रम में डाल रखा है। इस गूढ़ पहेली को सुलझाने के लिए वैज्ञानिकों ने अभी तक शोध तो बहुत किए हैं,परन्तु आज तक भी सभी वैज्ञानिक इस विषय पर एकमत नहीं हैं। अमेरिका के एक विश्वविद्यालय मिनेसेटा के शोध वैज्ञानिकों ने एक शोध निष्कर्ष निकाला है उस शोध निष्कर्ष के अनुसार सौरमंडल बनने के शुरूआती दिनों में हमारी पृथ्वी और मंगल पर एक धूमकेतु जीवन की सारी परिस्थितियों को लेकर आया,उन्होंने अपने शोध में आगे बताया है कि इस बात के पर्याप्त सबूत नहीं हैं कि हमारी धरती के बनने के समय इस पर पर्याप्त मात्रा में कार्बन था या नहीं,जो जीवन के लिए बहुत ही जरूरी है,इसलिए यह बहुत बड़ी संभावना है कि सूदूर अंतरिक्ष से कोई धूमकेतु या छुद्र ग्रह पृथ्वी पर पर्याप्त मात्रा में कार्बन लाया हो ! इसी प्रकार आयरलैंड की राजधानी डब्लिन के ट्रिनिटी कॉलेज के वैज्ञानिकों का एक अन्य मत है उनके अनुसार अरबों साल पहले हमारी पृथ्वी के समुद्र के पानी के ऊपर ही संयोग से सूदूर अंतरिक्ष से आए एक क्षुद्र ग्रह या एस्ट्रोआएड और एक पुच्छल तारे में भयंकरतम् टक्कर से एक ऐसी विशिष्ठ परिस्थिति का निर्माण हुआ या एक ऐसा ढाँचा बना,जिससे इस पृथ्वी पर जीवन के शुरूआती लक्षण पैदा हुए,उक्त वैज्ञानिकों के दल ने बताया कि धूमकेतु और उस उल्का पिंड के टकराव से जो तत्व पृथ्वी के समुद्र के पानी में गिरे उसके रासायनिक प्रतिक्रिया के फलस्वरूप जटिल कार्बनिक अणुओं और उर्जा का निर्माण हुआ,यह उपयुक्त वातावरण समुद्र के पानी में बना,जिसमें शुरूआती जीवन की संभावना पनपने की अपार संभावनाएं अंतर्निहित थीं। वैज्ञानिकों का एक समूह मानता है कि पृथ्वी पर जीवन की शुरूआत कुछ छुद्र ग्रहों की टकराने की वजह से हुआ। इन अनुसंधानकर्ताओं के अनुसार ये आकाशीय पिंड बंदूक की गोली की तरह अमीनों अम्ल और इसी प्रकार के अन्य पदार्थों को पृथ्वी सहित मंगल जैसे अनेक ग्रहों पर भी तेजी से गिराए होंगे, ये पदार्थ जब वहाँ के समुद्री पानी में गिरे होंगे,तब उनके गिरने से पानी और ये अमीनों अम्ल प्रतिक्रिया करके एक विशिष्ठ अणु बनाए होंगे और वे ही अणु इस धरती के प्रथम एककोशिकीय जीव के प्रतिनिधि बने होंगे,परन्तु अभी तक सभी वैज्ञानिक इस विषय पर एकमत नहीं हैं। हाल ही में हुए बहुत से वैज्ञानिक शोधों ने इस धारणा को बहुत मजबूत किया है कि हमारी धरती पर जीवन की शुरुआत किसी धूमकेतु से लाए जीवन के परमावश्यक तत्व के इस धरती पर आने के बाद शुरू हुआ है। वैज्ञानिकों के अनुसार अत्यधिक गर्म चट्टानों पर पानी गिरने से दोनों के बीच रासायनिक क्रिया हुई और एक जटिल कार्बनिक अणु का निर्माण हुआ। इस खोज के लिए शोधकर्ताओं ने उस विशेष घाटी के तत्वों को लेकर उसके रासायनिक व कार्बन समस्थानिक का गहन अध्ययन किया।
वैज्ञानिकों के अनुसार जीवन के लिए छः तत्व क्रमशः कार्बन,हाइड्रोजन, नाइट्रोजन,ऑक्सीजन, फॉस्फोरस और सल्फर अत्यंत जरूरी हैं,इन्हें वैज्ञानिकों की संक्षिप्त भाषा में अंग्रेजी के अल्फाबेट में ‘सीएचओपीएस ‘भी कह देते हैं,इन्हीं छःतत्वों से हमारी पृथ्वी के ज्यादेतर जैविक अणुओं का निर्माण हुआ है। वैज्ञानिक काफी पहले ही धूमकेतुओं में उक्तवर्णित छः तत्वों में शुरूआत के पाँच तत्वों को ढूँढ़ लिए थे,परंतु फॉस्फोरस नामक तत्व बहुत पहले के वैज्ञानिक खोजों में ज्यादेतर धूमकेतुओं में अनुपस्थित था,परन्तु अभी कुछ समय पूर्व सन् 2016 में 67-पी चुर्युमोव गेरा सिमेन्को या कैटालिना नामक धूमकेतु हमारी धरती से बहुत नजदीक से गुजरा,इसका गहन अध्ययन जर्मन एयर स्पेस और अमेरिकन स्पेस एजेंसी नासा ने अपने संयुक्त प्रोजेक्ट स्ट्राटोस्फेरिक ऑब्जर्वेटरी फॉर इंफ्रारेड एस्ट्रोनॉमी या संक्षेप में सोफिया ने और यूरोपियन एजेंसी के रोसेटा अभियान के आँकड़ों के आधार पर फिनलैंड के तुर्क यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं और एस्ट्रोफिजिक्स और सॉफ्टवेयर इंजीनियरों के दल ने गहन अध्ययन किया,जो नोटिसेज ऑफ द रॉयल एस्ट्रोनॉमिकल सोसायिटी की मासिक पत्रिका में प्रकाशित हुआ है। इस शोध निष्कर्ष के अनुसार उक्तवर्णित इस धूमकेतु में जीवन के लिए अत्यावश्यक छः तत्वों में अंतिम तत्व फॉस्फोरस भी ढूँढ लिए गये हैं। इस बार वैज्ञानिकों ने फॉस्फोरस आयन को बहुत स्पष्टता से खोज लिए हैं,पहली बार जीवन के लिए अत्यंत जरूरी यह तत्व धूमकेतु के ठोस पदार्थ में खोजे गए हैं,पृथ्वी पर जीवन के लिए फॉस्फोरस एक अति महत्वपूर्ण घटक है,यह शोध पृथ्वी पर जीवन का शुरूआती प्रादुर्भाव कैसे हुआ ?इसके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण खोज है। धूमकेतुओं में कॉर्बन तत्व की खोज के लिए स्ट्राटोस्फेरिक ऑब्जर्वेटरी फॉर इंफ्रारेड एस्ट्रोनॉमी या सोफिया में लगे इंफ्रारेड इंस्ट्रुमेंट्स की मदद से उसकी पूँछ में मौजूद कॉर्बन का पता चला,ओआर्ट बादलों,बर्फ और धूल से बने धूमकेतु सौरमण्डल के प्रायः बाहरी हिस्से में बनते रहते हैं। इसी प्रकार जीवन के लिए एक अन्य महत्वपूर्ण घटक कार्बन भी वैज्ञानिकों के अनुसार इस सौरमण्डल बनने के शुरूआती दिनों में इस पृथ्वी पर उपलब्ध नहीं था,क्योंकि पृथ्वी के अत्यधिक गर्म रहने की वजह से इस पर उपस्थित कार्बन भी धरती से उड़ गया, वाष्पित हो गया । इस सौरमण्डल के सबसे बड़े बृहस्पति ग्रह पर कार्बन की मात्रा बहुत ज्यादे थी, लेकिन बृहस्पति ग्रह के अत्यधिक गुरूत्वाकर्षण बल की वजह से वहाँ का कॉर्बन पृथ्वी जैसे छोटे ग्रहों तक पहुँच ही नहीं सकता है ! अधिकतर वैज्ञानिकों का मत है कि बृहस्पति जैसे ग्रहों से यह कॉर्बन धुमकेतुओं के माध्यम से इस धरती और मंगल जैसे ग्रहों तक पहुँचा ! कैटरीना धूमकेतु के बनावट से यह संभावना व्यक्त की जा सकती है कि कभी गर्म ग्रहों पर भी जीवन का विकास कैसे हुआ होगा ?
इस घटना को क्या कहेंगे कि अरबों साल पहले एक धूमकेतु इस धरती पर जीवन ले आया, परन्तु साढ़े छः करोड़ साल पहले एक धूमकेतु इस पृथ्वी से टकराकर इस धरती के तीन चौथाई जीवों का महाविनाश कर दिया ! वैज्ञानिकों के अनुसार अरबों साल पूर्व इस धरती पर सूदूर अंतरिक्ष से आए एक धुमकेतु और एक उल्कापिंड के टकराव की वजह से हुए घर्षण और रासायनिक तत्वों व पृथ्वी के समुद्रों में स्थित जल के रासायनिक अभिक्रिया की वजह से यह धरती आदिम जीवों के साँसों के स्पंदन से युक्त हुई और करोड़ों साल के क्रमिक विकास के फलस्वरूप 25 करोड़ से 20 करोड़ वर्ष पूर्व तक ट्राइएसिक कालखंड रहा,फिर उसके बाद मेसोजोइक कालखंड आया,फिर जुरैसिक कालखंड आया, लेकिन वैज्ञानिकों के अनुसार लगभग साढ़े छः करोड़ साल पहले इसी जुरैसिक कालखंड के लगभग अंतिम समय में,एक बड़ा धूमकेतु पृथ्वी से आ टकराया था,जिस जगह ये टक्कर हुई थी,वह आज दक्षिण-पूर्व मैक्सिको के युकातान प्रायद्वीप कहा जाता है,वैज्ञानिकों के अनुसार धूमकेतु के टकराने से पूर्व इस क्षेत्र में बहुत घने हरे-भरे जंगल था,जिसमें टायरानोसॉरस या टीरैक्स जैसे डॉयनोसॉर और नन्हें स्तनपायियों से लेकर 8 किलोग्राम वजन तक के स्तनपायी जीव वहाँ खूब मजे में रहा करते थे,यह टक्कर इतना भीषण था और संहारक था कि इसके प्रभाव से समस्त पृथ्वी पर बेहद गर्म तरंगें पैदा हुईं,काले धुँए,धूल,काली राख और छोटी-मोटी चट्टानों की घनीभूत चादर से पृथ्वी की सम्पूर्ण सतह और इसका सारा वातावरण ढक गया,इसका सारा आकाश ढक गया,सूर्य की किरणें सालों-साल तक इस धरती पर आनी बंद हो गईं,इसका नतीजा यह हुआ कि इस धरती की समस्त हरियाली,इस पर उपस्थित पेड़,पौधे सूरज की किरणों के अभाव में मृत हो गए,पेड़-पौधों पर पलनेवाले शाकाहारी भोजन करने वाले सभी जीव भूख से तड़प-तड़पकर मर गये,जैसे जुरासिक काल के दैत्याकार छिपकली के आकार-प्रकार के डॉयनोसॉर प्रजाति के सभी लगभग 1000 प्रजातियों जिनमें शाकाहारी डॉयनोसॉर जैसे एपेटोसॉर व ब्रैंकियोसॉर और उनपर आश्रित माँसाहारी डॉयनोसॉर जैसे ट्राईरेनोसॉर, ओनिर्थोमिमस आदि जीवधारियों की लगभग तीन चौथाई आबादी विनष्ट हो गई,मौत के मुँह में चली गई,धूमकेतु गिरने के समय इस धरती पर डॉयनोसॉरों का ही दबदबा था,हालांकि उस समय की धरती पर भी कुछ बहुत छुद्र और अत्यंन्त छोटे स्तनधारियों का भी उद्भव हो चुका था,परन्तु उनका वजन और आकार विशाल डॉयनोसॉरों की तुलना में लगभग नगण्य सा था,उस समय सबसे छोटे स्तनधारी का वजन मात्र 500 ग्राम और सबसे बड़े स्तनधारी का वजन भी केवल 8 किलोग्राम से ज्यादे नहीं था ! लेकिन अतिबलशाली व हिंसक डॉयनोसॉरों की वजह से उनके डर के मारे ये कमजोर व निरीह स्तनधारी आज के चूहों और खरहों जैसे जमीन के अंदर अपने बिलों में ही अक्सर छिपकर रहने को विवश थे ! हालांकि उल्कापिंड के गिरने से हुए महाविनाश के बहुत बाद में धीरे-धीरे इस धरती से डॉयनोसॉरों के विलुप्त होने या अनुपस्थित हो जाने की वजह से बिल में दुबके ये छोटे-छोटे स्तनपायी जीवों के विकास का मार्ग बड़ी ही तीव्र गति से प्रशस्त हो गया,भूवैज्ञानिकों को उत्तरी अमेरिकी प्रायद्वीप के कोलोरोडो झरने के पास लगभग 17 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल में फैले एक पहाड़ी की तीखी ढलानों पर 16 तरह के जानवरों और 600 से ज्यादे प्रजाति के पौधों के जीवाश्म मिले हैं,भूवैज्ञानिकों के अनुसार समूचे विश्व के बारे में इसके बारे में हमें बहुत कम जानकारी है,परन्तु उत्तरी अमेरिकी प्रायद्वीप के कोलोरोडो झरने के पास मिले प्राचीन जीवों के इन बहुत बढ़िया जीवाश्म सबूतों और रिकॉर्डों से यह बात बहुत बढ़िया ढंग से विश्लेषित की जा सकती है कि साढ़े छः करोड़ साल पूर्व एक धूमकेतु के टकराने के बाद इस धरती पर जीवन दुबारा कैसे पनपा।
अब हम उस महाविध्वंस के बाद हमारी धरती पर जीवन कैसे-कैसे लौटा,उसका क्रमबद्धता से देखने की कोशिश करते हैं। वैज्ञानिकों के अनुसार धूमकेतु के टकराने के लगभग एक लाख वर्षों के बाद पृथ्वी के जंगलों में ताड़ के वृक्षों की भाँति के पेड़ों का साम्राज्य हो गया,इसके साथ -साथ स्तनधारी जीवों का वजन आज के उत्तरी व मध्य अमेरिका में पाए जाने वाले रैकून के बराबर हो गया,लगभग 3 लाख साल बाद अखरोट जैसे पेड़ों में विविधता आने लगी और स्तनधारी जीवों का वजन भी बढ़कर आज के बीवर जैसे जीवों के बराबर हो गया,जीवाश्म वैज्ञानिकों के अनुसार लगभग 7 लाख साल बाद इस धरती पर मटर और बींस जैसे प्रोटीनयुक्त फलीदार पौधों का विकास तेजी से होने लगा था, इसी के साथ स्तनधारी जीवों के वजन और भार में भी क्रांतिकारी परिवर्तन आने शुरू होने लगे थे,अब इनका वजन बढ़कर 50 किलोग्राम तक और आकार में एक बड़े कुत्ते के वजन के बराबर हो गया,जो उल्कापिंड गिरने के समय के जीवों से लगभग 100 गुने भारी थे। अब प्रश्न यह पैदा हुआ कि इस काल में स्तनधारी जीवों का वजन इतनी तेजी से आखिर क्यों बढ़ना शुरू हुआ ? वैज्ञानिकों के अनुसार उस काल में फलीदार और प्रोटीन के सबसे अच्छे श्रोत वाले पौधों का अस्तित्व इस पृथ्वी पर हो चुका था और यही प्रोटीनयुक्त भोज्यपदार्थ जीवों को अपनी कद-काठी और वजन बढ़ाने में सहायता कर रहा था ! वैज्ञानिकों के अनुसार वर्तमानसमय में इस धरती पर उपस्थित बड़े से बड़ा स्तनधारी जीव जिसमें मनुष्य भी सम्मिलित है,उन्हीं छोटे-छोटे स्तनधारी जीवों से विकसित हुए हैं,जो डॉयनोसॉर के महाविनाश के समय अपने बिलों में दुबके हुए थे,इन जीवों में गैंडा,हिप्पो,हाथी और सबसे बड़े समुद्री स्तनपायी ह्वेल तथा सबसे बड़े मस्तिष्क वाला मनुष्य भी है। इस पृथ्वी पर धूमकेतुओं के गिरने और उससे महाप्रलय जैसी घटनाएं करोड़ों सालों में कभी-कभार होती हैं,परन्तु आज इस धरती के समस्त पर्यावरण,जैवविविधता व जैवमण्डल पर मनुष्यजनित कुकृत्यों यथा वायु,जल व भूगर्भीय प्रदूषण से ग्लोबल वार्मिंग,जंगलों की अंधाधुंध कटाई से इस धरती का पर्यावरण व इसके समस्त पशु,पक्षी और हजारों जीवों कि प्रजातियाँ भयंकरतम् विलोपन की दुःखद स्थिति तक पहुँच चुकी़ हैं। इसलिए अब इस धरती के सबसे बड़े मस्तिष्क और इस जैवमण्डल के सर्वाधिक बुद्धिमान हम मानवों का परम् व अभीष्ट कर्तव्य है कि हम अपनी धरती को हरा-भरा,प्रदूषणमुक्त रखें,ताकि इस धरा पर उपस्थित जैवमण्डल के सभी जीव-जन्तु अपना जीवन एक-दूसरे के साथ साहचर्य,अच्छे स्वास्थ्य और नैसर्गिक रूप से आनन्दित होकर अपनी भरपूर जिंदगी जी सकें।

— निर्मल कुमार शर्मा

Leave a Reply