बोधकथा

बोध बुद्ध मेंहीं कथा

भारत सहित नेपाल, भूटान आदि देशों तक प्रसारित संतमत परम्परा के प्रख्यात संत महर्षि मेंहीं के पितृ घर सिकलीगढ़ धरहरा, जो पूर्णिया जिला में है और जन्मभूमि यानी ननिहाल खोखसीश्याम, जो मधेपुरा जिला में है, किंतु उनकी कर्मभूमि कटिहार जिले के नवाबगंज और मनिहारी रही।

नवाबगंज में संतमत सत्संग मंदिर 1930-31 में स्थापित हुई थी, तो मनिहारी में सत्संग मंदिर 1936 में बनी है, अपितु महर्षि मेंहीं के मुख्य निवास नवाबगंज मन्दिर रहा । मनिहारी कुटी में तो गंगा स्नानादि के तत्वश: जाते रहे।

महर्षि मेंहीं का जन्मोत्सव 1945 में पहलीबार नवाबगंज सत्संग मंदिर में ही मनी थी। बिहार के मधेपुरा जिले में जन्म, पूर्णिया जिला स्कूल में पढ़ाई, कटिहार जिला (नवाबगंज, मनिहारी) कर्मभूमि, कुप्पाघाट (भागलपुर) में ज्ञान-प्राप्ति वाले संत महर्षि मेंहीं को महात्मा बुद्ध के अवतार माने जाते हैं।

सौ साल पाकर 1986 को महापरिनिर्वाण पाये। इनकी उल्लेखनीय आध्यात्मिक-पुस्तकों में ‘सत्संग-योग’ की चर्चा चहुँओर है, यह चार भागों में है । इसे भौतिकवादी व्यक्तियों को भी पढ़ना चाहिए । मैंने भी चौथे भाग की समीक्षा किया है। ऐसे संतशिरोमणि के बारे में देश-विदेश के कई विद्वानों ने चर्चा किये हैं !