बालोपयोगी लेख

व्यक्तित्व त्रय

भारतरत्न ‘नानाजी देशमुख’ को हम विस्मृत कर गए क्या ? जयप्रकाश नारायण, नानाजी देशमुख और राममनोहर लोहिया के बीच समानता तो है, एतदर्थ इन तीनों को निःसंकोच तुलना-त्रयी कहा जा सकता है । तीनों समाजवादी हैं, किन्तु राष्ट्रवादी हैं । तीनों को हिंदुत्व संस्कृति भाए हैं, किन्तु धर्मनिरपेक्षता को वे ‘मिस’ नहीं कर सकते थे।

तीनों को सत्ता से मोह नहीं थे, चाहते तो केंद्रीय सत्ता में अहम किरदार निभा सकते थे ! परंतु जेपी प्रधानमंत्री नहीं बने, नानाजी का नाम मोरारजी-मंत्रिमंडल के लिए शामिल होने पर भी वे उधर नहीं गए । भारत सरकार ने जेपी और नानाजी देशमुख को ही ‘भारत रत्न’ से अलंकृत किये हैं।

खैर, यही तो राजनीतिक मीमांसा और पिपासा जो है! 11 अक्टूबर यानी जयप्रकाश और नानाजी की जयंती है,  जेपी यानी जयप्रकाश ने छात्र आंदोलन में शरीक होकर गुजरात से लेकर जहाँ बिहार में अब्दुल गफ़ूर की सरकार को उखाड़ फेंकने को लेकर जैसे सिर पर क़फ़न ही बांध लिये । विख्यात फ़ोटोग्राफ़र रघु राय के चित्रों में दर्ज़ जिस लाठी की मार से जेपी गंभीर रूप से घायल हुए, उनके लिए क़फ़न ही साबित हुए और यही तो ‘सम्पूर्ण क्रांति’ की आग़ाज़ साबित हुई, जो कि प्रियदर्शिनी इंदु गांधी की चूलें हिला कर रख दी।

इसी बीच लोहिया भी इंदु से हिसाब मांगने लगे । बकौल लोहिया– ‘ज़िंदा कौमें पाँच बरस इंतज़ार नहीं करती ।’ …. तो महाराष्ट्रीयन नानाजी ने भारत भ्रमण कर तथा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के बतौर प्रवक्ता बन समाजवादी राष्ट्रवाद का प्रचार-प्रसार कर देशभक्ति की लौ जगा दी।

नानाजी की 102 वीं जयंती वर्त्तमान भारत सरकार के माने तो अहम है, जिनमें सिद्धांत और प्रतिबद्धता अनोखेपन लिए है । राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर ने जेपी को लेकर कई कविताएँ लिखा है, किन्तु स्वयं जेपी ने चंडीगढ़ जेल में  9 अगस्त 1975 को एक कविता खुद पर लिखा था।