कविता

अंगूर मीठे हैं ?

मास्क और दूरी,
अब भी जरूरी !
चाहे रिश्ते में कोई हो,
अन्यथा रोई हो
और तब खोई हो !
पत्रकार का मतलब
सिर्फ सवाल उठाना नहीं,
जनसरोकारों से
जुड़े रहना भी है !
पत्नी यानी
‘पतन’ की ओर
‘पति’ को ले जावे!
बेगम यानी
‘गम’ जो हमेशा
‘साहब’ को देवे!
बीबी यानी
टीबी रोग
‘मियाँ’ को जो देवे!
हँसिये मत !
‘मध्यमार्गी’
पढ़े-लिखे ‘लोग’
लिखे-पढ़े ‘लंठ’ होते हैं !
वे ‘बतुला’ खूब करेंगे !
फिर एक असफलता
बीपीएससी की
मुख्य परीक्षा में रिजल्ट
मेरे पक्ष में नहीं रहा
क्या अंगूर खट्टे हैं ?
प्राय: लोग ‘सही’ बात
नहीं समझ पाते हैं !