कविता

सबक

समय तेजी से निकल रहा है
सबक सीखने की सीख दे रहा है,
मगर हम मुगालते में जीते हैं
समय का उपहास उड़ाते रहते हैं।
अब भी समय है सचेत हो जायें
अपना गुरुर छोड़
समय की बात मान जायें,
वरना बहुत पछताएंगे
समय निकल गया
तो हाथ मलते रह जायेंगे।
सही समय पर सही सबक
सही पाठ, पढ़ लीजिये तो अच्छा है,
वरना सबक लेकर भी
बहुत पछताएंगे,
हाय सबक, हाय सबक रटते रह जायेंगे
सबक को हाथ में लेकर
फिर झुनझुना ही बजाएंगे,
सबक लेकर भी सिवाय पछताने के
कुछ कर नहीं पायेंगे
सिर्फ़ माथा पीटते रह जायेंगे।