समाचार

डॉ. सदानंद पॉल ने फिर बनाया गणित पहेली ‘केपी10’

                                ■डॉ. सदानंद पॉल ने फिर बनाया गणित पहेली ‘केपी10’

■बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स ने ‘इटरनेशनल रिकॉर्ड’ के रूप में किया दर्ज
■पिता कालीप्रसाद पॉल (केपी) के 76वें जन्मदिन पर 10 जनवरी को उन्हें  किए भेंट
●●●

अभी 7 जनवरी से 21 जनवरी 2022 तक बिहार के विद्यालयों में अध्यापन कार्य बंद है और इस अवधि का सदुपयोग कर स्थानीय पी एल एस एन बालिका इंटरस्तरीय विद्यालय मनिहारी के वरीय अध्यापक और  स्थानीय नवाबगंज रहवासी डॉ. सदानंद पॉल ने पिताजी कालीप्रसाद पॉल के 76वें जन्मदिवस 10 जनवरी को अनूठे अंदाज में मनाया। पिताजी के नाम की संक्षिप्तकी के.पी. और जन्म की तारीख 10 को लेकर KP10 या केपीटेन नामक गणित पहेली बनाकर पिताजी को उपहारस्वरूप भेंट किए। इस गणित पहेली का सरल उच्चारण को लेकर कैप्टेन नाम भी दिया है, जिसे ‘बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स’ ने इंटरनेशनल रिकॉर्ड्स के रूप में मान्यता प्रदान किया तथा अपने वेबसाइट में शीर्षक ‘न्यूएस्ट मैथेमैटिक्स पजल केपी10’ अंतर्गत जगह दी है। ‘बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स’ के अनुसार- “डॉ. सदानंद पॉल, कटिहार (बिहार) ने पिताजी श्री कालीप्रसाद पॉल के जन्मदिन (10 जनवरी) पर एक गणित-पहेली (Mathematics Puzzle) की खोज किया और उन्हें सादर समर्पित किया, जिनका नामकरण पिताजी के नाम पर तथा उनकी जन्मतिथि (10 जनवरी) को लेकर KP10 या केपीटेन (सहज उच्चारण लिए “कैप्टेन”) रखा है। ध्यातव्य है, 10×10 क्षैतिज और उदग्र 100 वर्गाकृति में 1 से 100 की संख्या इसतरह से लिखना या भरना है कि 2 क्षैतिज या 2 उदग्र या आरे और तिरछे (तिर्यक) दोनों पंक्ति में 10+10 वर्गाकार कॉलम में उद्धृत संख्याओं का योग 1010 होंगे। संख्या की यह खेल-पहेली बड़ी निराली है, जो स्वदेशी गणित-पहेली है।”

ज्ञात हो, यह भारत में निर्मित तथा डॉ. सदानंद पॉल के द्वारा अन्वेषित तीसरा स्वदेशी गणित पहेली है। पहला गणित पहेली ‘सदानंदकु’ उनके द्वारा ही वर्ष 2020 में देशभर में लगे लॉकडाउन में कोरोनाजन्य विपदा को अवसर समझकर बनाया गया था। दूसरा संख्यात्मक पहेली बिहार में लगे लॉकडाउन पर नानाजी के स्मृति में  हैं, जिनमें 8koo या अटकू बनाए। मनिहारी अवस्थित पन्ना लाल सुरेंद्र नारायण बालिका इंटरस्तरीय विद्यालय में वरीय अध्यापक डॉ. सदानंद पॉल ने भले ही पिताजी के जन्मदिन पर उन्हें गणित पहेली ‘केपीटेन’ समर्पित किए, किन्तु यह उपलब्धि जनहितकारी है। ध्यातव्य है, सदानंद पॉल का नाम लगातार 21 बार पद्म अवार्ड के लिए नामांकित हुआ है, तो उनके नाम गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, स्टार वर्ल्ड रिकॉर्ड्स सहित ग्रेट ब्रिटेन के ‘रिकॉर्ड्स होल्डर्स रिपब्लिक’ में दर्ज है। उनके इस उपलब्धि को मनिहारी क्षेत्र के बुद्धिजीवियों ने अद्भुत बताए हैं।