गीतिका/ग़ज़ल

गज़ल

जो आँखें ढूँढती हैं वो नज़ारा क्यों नहीं मिलता
अगर मैं हूँ समंदर तो किनारा क्यों नहीं मिलता
==============================

मेरे चारों तरफ यूँ तो बहुत से लोग रहते हैं
दिल जिससे मिला उससे सितारा क्यों नहीं मिलता
==============================

मुख्तसर सी मुलाकातें तो होती हैं कई उससे
मुझे हमदम मेरा सारे का सारा क्यों नहीं मिलता
==============================

हासिल तो बहुत कुछ है शिकायत पर है इतनी सी
वो मासूम सा बचपन दोबारा क्यों नहीं मिलता
==============================

ऊँगली थाम के बच्चों को जो चलना सिखाती है
बुढ़ापे में उसी माँ को सहारा क्यों नहीं मिलता
==============================

ठिकाने लाख हम बदलें चले आते हैं गम खुद ही
खुशियों को कभी पर घर हमारा क्यों नहीं मिलता
==============================

आभार सहित :- भरत मल्होत्रा।

Leave a Reply