राजनीति

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022: क्या कहते हैं ओपिनियन पोल ?

उत्तर प्रदेश 18 वी विधानसभा सभा चुनाव की तारीखों का ऐलान हो चुका है , मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा के अनुसार सात चरणों में चुनाव संपन्न होंगें , उत्तर प्रदेश की कुल 403 विधान सभा सीटों पर मतदान के परिणाम की घोषणा 10 मार्च को होगी , ऐसे में सभी राजनीतिक दल एड़ी-चोटी का ज़ोर लगा रहें हैं और वादों की झड़ी के बीच मतदाता अपने – अपने क्षेत्र के प्रतिनिधि और राजनीतिक दलों को परखने की कोशिश कर रहें हैं , उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव का इतिहास रहा है कि जो भी पार्टी सत्तारूढ होती है आगामी चुनाव में उसे जनता खारिज कर नये दल को मौका देती है , इसी तर्ज पर विपक्षी दलों को उम्मीद है कि इस बार जनता भाजपा और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को खारिज कर देगी , लेकिन ओपिनियन पोल के ताजा आंकड़े कुछ और कहानी कहते हैं , ऐसे में सवाल उठता है कि क्या योगी आदित्यनाथ आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में एक नया इतिहास रच देंगे? आखिर क्या कहते हैं ओपिनियन पोल के आंकड़े ? और कितने सच होते रहें है ओपिनियन पोल के आंकड़े ?

अगर ओपिनियन पोल के ताजा आकड़ों का अवलोकन करें तो अब तक उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव नतीजों को लेकर तकरीबन आठ सर्वे सामने आएं हैं , सी वोटर के सर्वे के अनुसार भारतीय जनता पार्टी को 223 – 235 सीटें , जबकि समाजवादी पार्टी को 145 – 157 सीटें , बहुजन समाज पार्टी को 8 – 16 सीटें जबकि कांग्रेस को 3 – 7 सोटें मिलती दिख रही है ।
जी डिजाइन के सर्वे में भारतीय जनता पार्टी को 245 – 267 सीटें , समाजवादी पार्टी को 125 -148 सीटें , बहुजन समाज पार्टी को 5 – 9 सीटें तथा कांग्रेस को 3 -7 सीटें मिलती दिख रही हैं ।
टाइम्स नाऊ के सर्वे के अनुसार भारतीय जनता पार्टी को 240 सीटें , समाजवादी पार्टी को 143 सीटें , बहुजन समाज पार्टी को 10 सीटें जबकि कांग्रेस को 8 सीटें मिलती दिख रही हैं । इंडिया न्यूज का सर्वे भारतीय जनता पार्टी को 226 – 246 सीटें , समाजवादी पार्टी को 144 – 180 सीटें , बहुजन समाज पार्टी को 8 -13 सीटें और कांग्रेस को 0 -1 सीट मिलता दिखा रहा है, इंडिया टीवी के ओपिनियन पोल सर्वे पर नजर डालें तो भाजपा को 230 -235 सीटें , समाजवादी पार्टी को 160 -165 सीटें , बहुजन समाज पार्टी को 2 -5 सीटें तथा कांग्रेस को 3 -7 सीटें मिलती दिख रही हैं , पोर्ट्रेट न्यूज के सर्वे रिपोर्ट में भाजपा को 235 -245 सीटें , समाजवादी पार्टी को 120 -130 सीटें , बहुजन समाज पार्टी को 13 -16 सीटें और कांग्रेस को 4 -5 सीटें मिलती दिख रही हैं , रिपब्लिकन पी का सर्वे भारतीय जनता पार्टी को 252 -272 सीटें , समाजवादी पार्टी को 111-131 सीटें , बहुजन समाज पार्टी को 8 -16 सीटें और कांग्रेस को 3 -9 सीटें मिलने का आकलन कर रहा है ,सिर्फ देश बंधु लाइव का सर्वे समाजवादी पार्टी को भारतीय जनता पार्टी से अधिक सीटें देता दिखा रहा है , देश – बंधु का सर्वे समाजवादी पार्टी को 203 -211सीटें , भारतीय जनता पार्टी को 144 -152 सीटें , बहुजन समाज पार्टी को 12 – 20 सीटें तथा कांग्रेस को 19 – 27 सीटें मिलने की संभावना पर मुहर लगा रहा है।

अगर इन सभी सर्वे रिपोर्ट का औसत देखें तो उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में भारतीय जनता पार्टी को 224 – 236 सीटें , समाजवादी पार्टी को 144-180 सीटेसीटें , बहुजन समाज पार्टी को 8 -13 सीटें तथा कांग्रेस को 5 – 9 सीटें मिलती दिख रही है । अगर उपरोक्त सभी सर्वे के आकलन की माने तो उत्तर प्रदेश विधानसभा सभा चुनाव योगी आदित्यनाथ की भाजपा सरकार दोबारा बनती दिख रही है ।
हालांकि ओपिनियन पोल हमेशा सही नहीं होते इसलिए अगर उत्तर प्रदेश विधानसभा सभा चुनाव 2017 के चुनाव के पहले के मुख्य चार ओपिनियन पोल और नतीजों का अवलोकन करें तो 2017 में इंडिया न्यूज के ओपिनियन पोल ने भारतीय जनता पार्टी को 134 – 150 सीटें , बहुजन समाज पार्टी 95 -111 सीटें , कांग्रेस और समाजवादी पार्टी ने साथ चुनाव लड़ा था , समाजवादी पार्टी एवं कांग्रेस को 138 -162 सीटें , तथा अन्य को 4 – 12 सीटें मिलने का आकलन किया था , सी वोटर सर्वे ने भारतीय जनता पार्टी को 142 सीटें , बहुजन समाज पार्टी 103 सीटें , समाजवादी पार्टी एवं कांग्रेस को संयुक्त रूप से 150 सीटें तथा अन्य को 8 सीटें मिलने का आकलन किया था , टाइम्स नाऊ ने भारतीय जनता पार्टी को 202 सीटें , बहुजन समाज पार्टी को 47 सीटें , समाजवादी पार्टी एवं कांग्रेस को संयुक्त रूप 147 सीटें तथा अन्य को 7 सीटें मिलने का आकलन किया था तथा इंडिया टुडे ने अपने सर्वे में भारतीय जनता पार्टी को 170 – 183 सीटें , बहुजन समाज पार्टी को 115 – 124 सीटें , समाजवादी पार्टी एवं कांग्रेस को संयुक्त रूप 102 -115 सीटें एवं अन्य को 2 – 6 सीटें मिलने का आकलन किया था । अगर औसत देखें तो तकरीबन सभी सर्वे में भारतीय जनता पार्टी या तो सबसे बड़े दल के रूप में उभरती दिख रही थी या फिर सरकार बना लेती हुई दिख रही थी ।

अगर उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 के नतीजों का अवलोकन करें तो भारतीय जनता पार्टी 312 सीटें प्राप्त कर दो तिहाई बहुमत हासिल करने में सफल रही थी , सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी तथा कांग्रेस गठबंधन को महज 54 सीटों से संतोष करना पड़ा था जबकि बहुजन समाज पार्टी महज 19 सीटों पर सिमट गयी थी , ऐसे में वर्तमान ओपिनियन पोल के आकड़े शत प्रतिशत सही होंगें यह कहना तो बहुत मुश्किल है , लेकिन अगर दोनों ही विधान सभा चुनाव के ओपिनियन पोल सर्वे पर अगर बारीकी से नजर दौड़ाए तो इतना स्पष्ट है कि ये आंकड़े मतदाताओं की मंशा और जनता की रूझान बताने में सफल रहें हैं, भले ही इन ओपिनियन पोलों के आंकड़े सटीक न रहे हो लेकिन ये आंकड़े चुनाव के रूझान की दिशा बताने में भी सफल रहें थे , जिस तरह से 2017 का ओपिनियन पोल भाजपा को अन्य दलों से आगे बता रहा था , इस बार भी वैसी ही स्थिति बनती दिख रही है , हाँ दीगर बात यह भी है कि पिछले चुनाव से भारतीय जनता पार्टी को सीटों का नुकसान होता दिख रहा है लेकिन तकरीबन सभी आंकड़े इस बात की पुष्टि कर रहें है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में भारतीय जनता पार्टी सत्ता में वापसी कर सकती है । हालांकि जनता का फैसला सर्वोपरि है और भविष्य के गर्भ में है , लेकिन अगर भाजपा ऐसा कर पाती है तो निश्चित रूप से योगी आदित्यनाथ आगामी विधानसभा चुनाव में इतिहास रचने में सफल होंगे । बहरहाल जब तक नतीजे नहीं आते हैं , इस दिलचस्प मुकाबले और प्रजातांत्रिक पर्व के संपन्न होने का इंतजार करते हैं।

अमित कुमार अम्बष्ट ” आमिली “