पद्य साहित्य हाइकु/सेदोका

वसन्त पंचमी (वसन्त पंचमी पर 10 हाइकु)

1.
पीली सरसों
आया है ऋतुराज
ख़ूब वो खिली।
2.
ज्ञान की चाह
है वसन्त पंचमी
अर्चन करो।
3.
पावस दिन
ये वसन्त पंचमी
शारदा आईं।
4.
बदली ऋतु,
काश! मन में छाती
बसन्त ऋतु।
5.
अब जो आओ
ओ! ऋतुओं के राजा
कहीं न जाओ।
6.
वाग्देवी ने दीं
परा-अपरा विद्या,
हुए शिक्षित।
7.
चुनरी रँगा
बसन्त रंगरेज़
धरा लजाई।
8.
पीला ही पीला
बसन्त जादूगर
फूल व मन।
9.
वसन्त ऋतु!
अब नहीं लौटना
हाथ थामना।
10.
हे पीताम्बरा!
सदा साथ निभाना
चेतना तुम।
– जेन्नी शबनम (5. 2. 2022)
____________________