बाल कविता

सप्ताह के दिन

दिन सप्ताह में होते सात
आओ! सीखें अच्छी बात
प्रतिदिन का है अलग ही नाम
मन से करना अपने काम
प्रथम दिवस होता रविवार
छुट्टी है, न सिर पर भार
सोमवार से है स्कूल
समय से जाना, करें न भूल
मंगलवार को मंगल करना
किसी जीव को तंग न करना
बुधवार को बुद्धि बढ़ाएँ
पढ़ – लिख बुद्धिमान कहलाएँ
गुरु जी का दिन है गुरुवार
गुरुजन का करना सत्कार
शुक्रवार का दिन है खास
खेलें – कूदें, हों न उदास
है शनिवार सातवाँ दिन
पूरे कार्य करें गिन – गिन
सात दिनों का चलता क्रम
समय न रुकता,तोड़ें भ्रम
— गौरीशंकर वैश्य विनम्र
गौरीशंकर वैश्य विनम्र
117 आदिलनगर, विकासनगर लखनऊ 226022 दूरभाष 09956087585