अन्य लेख लेख

मोदी उपनाम एक विवेचना

मोदी शब्द कहाँ से आया

“मोदी” शब्द की व्युत्पत्ति

मोदी का मतलब हैं मोठ दाल वाला
Modi simply means seller of moth beans
काशी वाले कबीर जी कह गए थे, “जाति न पूछो साधु की, पूछ लीजिये ज्ञान; मोल करो तलवार का, पड़ा रहन दो म्यान।”

हम भारतीय हैं। हम संत की जात भी पूछते हैं, और पंथ की भी। हमारे देश में केवल भारतीय होना काफी नहीं है। पिछली लोकसभा चुनाव 2019 में श्री नरेंद्र मोदी की जाति का मुद्दा खूब उछला था। इसीलिए “मोदी” शब्द का खोजपूर्ण विश्लेषण प्रस्तुत करता हूं।

‘मोदी’ का सामान्य अर्थ है, दाल, चावल आदि बेचने वाला, पंसारी, परचूनिया, ग्रॉसर (grocer)। भंडारी या स्टोर-कीपर (storekeeper) को भी मोदी कह सकते हैं। और ‘मोदीख़ाना’ का अर्थ है मोदी की दुकान या भंडार, पंसारी की दुकान, जनरल स्टोर, राशन की दुकान, किराना स्टोर, रसद भंडार, आपूर्ति भंडार। नरेंद्र मोदी गुजरात के मोढ-घाञ्ची समाज से हैं जो परंपरागत रूप से वनस्पति तेल निकालने और बेचने का काम करते रहा है। यह एक ऐतिहासिक तथ्य है कि भारत में पीढ़ी-दर-पीढ़ी एक ही व्यवसाय में लगे रहने के कारण पारिवारिक व्यवसाय ही जातियों में बदल गए थे। मेरा विचार है कि मोदी जाति का नामकरण प्राचीन काल में मोठ बेचने के व्यवसाय से शुरू हुआ होगा (मोठ > मोठी > मोढी > मोदी)। इसे समझने के लिए आइये चलें लगभग 10,000 वर्ष पहले कि दुनिया में, जब हमारे भील-शिकारी-घुमंतू पुरखे वनों को छोड़ कर मानव सभ्यता के पहले गाँव बसाना चाह रहे थे। कंद-मूल–फल का संग्रह और शिकार छोड़ कर हमारे पुरखे कृषि करना चाह रहे थे, किन्तु उन्हें अब भी वन में उपजी वस्तुएँ ही खाने के लिए पसंद थीं। ऐसे में कुछ लोग वन से वन-उपज ला कर गाँव के लोगों को बेचते थे या उनका लेन-देन करते थे। वन-उपज बेचने या उसका लेन–देन करने वाले ही वणिक /वनिये /बनिये कहलाए होंगे (वन > वणिक > वाणिज > वनिय > बनिया। इन वणिकों में भी विभिन्न लोग वन से वस्तु-विशेष लाने में विशेषज्ञता रखने लगे होंगे। इसी वस्तु-विशेष में विशेषज्ञता के कारण बनिया जाति की उप-जातियाँ बनी होंगी, जैसे बांस वाला बांसल /बंसल, मधु वाला मधुकुल/ मुद्गल। वन से लाकर मोठ बेचने वाले या उसका लेनदेन करने वाले वनिये मोठी कहलाए होंगे, और फिर मोठी से मोढी और मोदी।

मोठ का नामकरण :- लेकिन मोठ का नाम मोठ क्यों पड़ा? प्राचीन काल में जब हमारे पुरखे नए–नए खाद्य पदार्थों की पहचान और उनका नामकरण कर रहे थे, उन्होने कंद-मूल-फल-अन्न का नामकारण उनके स्वाद, आकार या अन्य गुणों पर किया होगा। इस ब्लॉग में हम आम, मटर, pea, मूंग, मसूर, मोठ, टमाटर, चावल, नारियल, आदि के नामकरण की चर्चा कर चुके हैं; जैसे मधुर > मटुर > मटर। इसी क्रम जब मोठ के पौधे की खोज हुई तो पुरखों ने पाया कि यह मीठी फली मनुष्यों को भी पसंद है और पशुओं को भी। मिठास के कारण इसका नाम हुआ :- मिष्ठ > मोष्ठ > मोष्ठक (लुप्त संस्कृत) > मुकुष्ट (संस्कृत) > मोष्ठक > मोठिके > मोडिके (कन्नड़)। मोष्ठ > मोठ > मुट/ मठ (गुजराती)। मोठ को बिना पकाये खाया जा सकता है क्योंकि पानी में भीगने के कुछ ही देर में मोठ नरम और अंकुरित हो जाता है। अतः यह भारतीय मूल का पौधा मानव इतिहास में सबसे पहले उपयोग में लाये जाने वाले अन्न / दाल में से एक रहा होगा।

मोदी और मोदक — कुछ विद्वानों का मत है कि मोदी शब्द मोदक (=लड्डू) से बना, अतः मोदी हलवाई थे। किन्तु मुझे लगता है कि संसार का पहला मोदक बनाने के लिए मोष्ठक या मोठ का प्रयोग किया गया होगा। अतः मोठ से मोदक। यह कल्पना मोठ के इस गुण पर आधारित है की इसे बिना पकाये खा सकते हैं। कच्ची भीगी मोठ में कोई मीठा रस मिला कर संसार का पहला मोदक बना होगा। आज मोठ के तो नहीं किन्तु मूंग, उड़द और चने के मोदक काफी लोकप्रिय हैं। अतः मोठ से मोदी, मोठ से मोदक; मोदक से मोदी नहीं।

मोदी, मद्द, मद, ग्रॉसर
सभी जातियों में केवल बनिये या मोदी ही अपना लेन-देन का हिसाब बही-खातों में रखते थे, इन बहियों में अन्य मोदियों से लेनदेन का हिसाब विभिन्न कॉलम में लिखा जाता था। प्रत्येक मोदी का एक अलग कॉलम होता था। यहीं से तालिका के कॉलम को मद (मोदी > मद) या मद्द (अरबी) कहा जाने लगा होगा। समाज द्वारा कृषि अपनाने के बाद जिन बनियों ने केवल मोठ ही नहीं अपितु सभी कृषि उत्पादों के लेन-देन का व्यवसाय किया वे कृषिर कहलाए होंगे और उससे ग्रॉसर (कृषिर > गृशिर > ग्रोशर > ग्रॉसर (grocer)। तो इस तरह मोदी लोग ग्रॉसर कहलाए होंगे। हिन्दी-अङ्ग्रेज़ी कोशों में मोदी का अर्थ ग्रॉसर ही है (शब्दकोश में ग्रॉसर का उत्स ग्रोस (gross) या थोक व्यापार से बताया गया है)।

घाञ्ची-मोढी
बाद में कुछ मोदियों या ग्रॉसरों ने केवल वनस्पति तेल निकालने और बेचने का काम अपनाया। प्राचीन काल में, कोल्हू के आविष्कार से पहले, तेल निकालने के लिए तैलीय बीजों को घन या मुद्गर से पीटा जाता था, और उसकी पिट्ठी को निचोड़ कर तेल निकाला जाता था। अतः घन से पीट कर बीजों से तेल निकालने वाले तेली घाञ्ची-मोदी (घन > घाञ्ची) कहलाये। घन से पीट कर निकाला गया तेल ‘घानी तेल’ कहलाया। बाद में कोल्हू का आविष्कार होने पर मनुष्य ही उसमें पशु कि तरह जुत कर तेल निकालता था। कोल्हू के मशीनीकृत होने के बाद भी कोल्हू से निकले तेल हो घानी तेल ही कहते हैं और निकालने वाले को घाञ्ची। भारत में जाति के ऊँच-नीच के क्रमिक वर्गीकरण का आधार उसका क्रमशः बुद्धिजीवी, बलजीवी, व्यवसायजीवी और श्रमजीवी होना था। यूँ तो घाञ्ची-तेली-मोदी की मूल जाति वन-उपज का व्यवसायी होने के कारण बनिया थी, किन्तु तेल निकालने का श्रमसाध्य काम करने के कारण वे निचले पायदान पर बनियों और शूद्रों के बीच की अन्य पिछड़ी जातियों में चले गए होंगे।

मोदी शब्द के उत्स पर एक मत यह भी :-
मोदी शब्द के उत्स पर अजित वडनेकर जी के दो बहुत ही शोधपूर्ण लेख उनके ब्लॉग पर उपलब्ध हैं। (1. मोदी की जन्मकुंडली 2. मोदीख़ाना और मोदी)। उनका कहना है कि भाषाविद् मोदी शब्द के उत्स पर एकमत नहीं है। मोदी शब्द का रिश्ता संस्कृत के मोद (आनंद), मोदक (लड्डू) और यहाँ तक की हलवाई से भी जोड़ा गया है। उनके अनुसार मोदी शब्द सेमेटिक धातु मीम-दाल-दाल (م د د ) यानी m-d-d या मद्द (=आपूर्ति, सहायता) पर आधारित है। अरबी में बहीखाते के कालम को मद्द कहते हैं, जिससे हिन्दी का मद बना। अतः बही खाता रखने वाले ही मोदी हुए। इस तरह वडनेकर जी का मानना है कि मोदी शब्द हिन्दी में मध्यकालीन मुस्लिम दौर में सैन्य शब्दावली से आया है।

संस्कृत में मोदी शब्द की व्युत्पति

मुद् धातु का अर्थ है – प्रसन्न होना, हर्षित होना।

इसका वाक्यों में प्रयोग देखें –

1• बच्चे लड्डुओं से प्रसन्न होते हैं – बालकाः मोदकै मोदन्ते।

2• मैं सेवईयों से प्रसन्न होता हूं – अहम् सूत्रिकाभिः मोदे।

यही मोदे शब्द कालांतर में मोदी ( बंग्ला में मुदी) कहलाया। ज्यादातर मोदी उपनाम वाले खाद्यान्न के विक्रेता थे, अतः मोदीखाना मतलब grocery shopkeeper कहलाया। सारे शब्द कोषों में यह बतलाया गया है। सारे वणिकों समूहों में कोई न कोई एक दल खुदरा ब्यापारी था अतः “मोदी” उपनाम सारे वणिक समूहों में मिलता है।

अतः “मोदी” का शब्दार्थ – यः स्व आचारेन विचारेन मोदयते, ततः मोदी कथयेत। मतलब जो अपने आचार विचार से प्रसन्न करता है, वही मोदी कहलाता है। किरानी शब्द भी किराना से बना है। मोदीखाना का देख रेख करने वाले को मोदी/ किरानी मोदी कहा जाता था।

मोदी उपनाम भारत में सामान्यतः हरियाणा, बिहार, झारखंड, ऊत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान और गुजरात राज्यों में निवास करने वाले वैश्य/ बनिया जाति वालों का है। मोदी उपनाम वाले प्रमुख हस्तियाँ —

1• नरेन्द्र मोदी

2• पीलू मोदी

3• गूजर मल मोदी

4• सोहराब मोदी

5• रूस्तम होमसजी मोदी

6• ललित मोदी

7• सुशील कुमार मोदी

8• अमृत वी मोदी

9• कल्पेन सुरेश मोदी

10• पुरूषोत्तम दास मोदी

11• मुरूगप्पा चेन वीरप्पा मोदी

मोदीनगर के संस्थापक गूजरमल मोदी हैं। मोदीनगर में मोदी नाम वाले कई शिक्षण संस्थानें हैं।

कबीर के दोहे में –

माया मेरे राम की ‘मोदी’ सब संसार ।

जाकी चीठी उतरी सोई खरचनहार ।।

 

One thought on “मोदी उपनाम एक विवेचना

  1. उत्तम लेख

Comments are closed.