गीतिका/ग़ज़ल

ग़ज़ल

सभी फूलों के खिल जाने के दिन हैं
हवाओं अब तो इतराने के दिन हैं
..
लिया था जो वो लौटाने के दिन हैं
कि सच्चाई को अपनाने के दिन हैं
..
न जाने क्यूँ मेरा दिल कह रहा है
बिना ही बात मुस्काने के दिन हैं
..
बुरे दिन भी गुजर जाएंगे प्यारे
नहीं अब और घबराने के दिन हैं
..
दबे हैं राज़ तहखाने में कितने
सभी तालों को खुलवाने के दिन हैं
..
समझदारी से हल होती है मुश्किल
नहीं बेकार चिल्लाने के दिन हैं
..
नहीं होती है ऐसे जीत हासिल
सबक हर बार दोहराने के दिन हैं
..
फ़िज़ाओं नें रमा फ़रमान भेजा
कि अब गुलशन को महकाने के दिन हैं

रमा प्रवीर वर्मा
नागपुर, महाराष्ट्र