कविता

समय प्रबंधन

हे! मित्र समय प्रबंधन सीखो ,
जीवन सुरभित हो जायेगा ।
नित-नव पल्लव महकेंगे और ,
जीव दीप-सा बन जायेगा ।।
समय प्रबंधन सिखलाता है,
सारे काम समय पर करना ।
एक-एक क्षण की प्रतिपल,प्रतिक्षण ,
सार्थकता संरक्षित करना ।।
गाँधी बापू ने बतलाया,
समय प्रबंधन कैसे हो ।
सभी कार्य मिल करें समय पर,
भारत का अभिनन्दन हो ।।
समय नियोजन कर विद्यार्थी,
अपने लक्ष्य को पायेंगे ।
जीवन के जो भी सपने हैं,
सारे सच हो जायेंगे ।।
जीवन महकेगा धरती पर,
इतिहास नया लिख जायेंगे ।
पद गरिमा बढ़ती जाएगी,
नित-नव गौरव पायेंगे ।।

— पंकज कुमार शर्मा ‘प्रखर’