गीत/नवगीत

यह जीवन कितना देता है

यह जीवन कितना देता है यदि धैर्य रखे तू जीवन में। अमृत भी अनायास देता मदिरा के खाली बर्तन में।। परतों पर परतें लाद के तू जग में पावन अभिमानों की, अभिनयी शक्ति से हर पल ही नव मूर्ति गढ़े इंसानों की। यश अपयश हानि लाभ जीना मरना सब सौंप विधाता को,, जब आत्मगंग में […]

कहानी

माँ का थप्पड़

 उठ जा बेटा! भोर हो गयी। सुन! मुर्गा बाँग दे रहा-कुकड़ू कूँ, कुकड़ू कूँ। सुन तो!अज़ान भी सुनाई दे रही। मंदिर पर साधु लोग भजन का राग छेड़ चुके हैं। सुन ना! तेरे पढ़ने का समय हो गया है। आँखे तो खोल। देख,लालटेन जला दिया तेरे लिए।” ऐसा कह कर कृष्णा देवी अपने 6वर्षीय पुत्र […]