Author :

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    साँस लेना अज़ाब लगता है वक़्त मेरा खराब लगता है…. सोचता हूँ लुटा दूँ दिल उस पर वो हसीं बेहिसाब लगता है वो परेशान कर रहा सबको पी के आया शराब लगता है…. शहर की भीड़...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    हाल अपना बता नहीं सकते दर्द दिल का सुना नहीं सकते पास कितनी भी चाहे दौलत हो कर्ज़ माँ का चुका नहीं सकते माँ के ही सामने झुकेगा सर सर कहीं भी झुका नही सकते। धूल...