Author :

  • *बेटी-युग*

    *बेटी-युग*

    सतयुग, त्रेता, द्वापर बीता, बीता कलयुग कब का, बेटी-युग  के  नए  दौर  में,  हर्षाया   हर   तबका। बेटी-युग में खुशी-खुशी है, पर महनत के साथ बसी है। शुद्ध-कर्म  निष्ठा का संगम, सबके मन में दिव्य हँसी है।...

  • बुरा न बोलो बोल रे..

    बुरा न बोलो बोल रे.. ..आनन्द विश्वास बुरा न देखो, बुरा सुनो ना, बुरा न बोलो बोल रे, वाणी में मिसरी तो घोलो, बोल बोल को तोल रे। मानव मर जाता है लेकिन, शब्द कभी ना...

  • *बेटा-बेटी सभी पढ़ेंगे*

    *बेटा-बेटी सभी पढ़ेंगे* …आनन्द विश्वास नानी वाली कथा-कहानी, अब के जग में हुई पुरानी। बेटी-युग के नए दौर की, आओ लिख लें नई कहानी। बेटी-युग में बेटा-बेटी, सभी पढ़ेंगे, सभी बढ़ेंगे। फौलादी ले नेक इरादे, खुद...

  • एप्पल में गुण एक हजार

    एप्पल में गुण एक हजार

    एप्पल में गुण एक हजार, एप्पल खाओ हर दिन चार। नित्य नियम से जो खाता है, हृष्ट-पुष्ट वह हो जाता है। एप्पल का भैया क्या कहना, सुन्दरता का ये है गहना। चेहरा दमके हर दम लाल,...

  • बन सकते तुम अच्छे बच्चे

    बन सकते तुम अच्छे बच्चे

    सुबह सबेरे जल्दी जगते, और रात को जल्दी सोते। ऐसा करते अच्छे बच्चे, बन सकते तुम अच्छे बच्चे। सिट-अप करते, पुश-अप करते, और तेल की मालिश करते। कसरत करते अच्छे बच्चे, बन सकते तुम अच्छे बच्चे।...

  • दूध दही घी माखन खाओ

    दूध दही घी माखन खाओ

    दूध दही घी माखन खाओ, हृष्ट-पुष्ट बच्चो बन जाओ। सुनो दूध की लीला न्यारी, सभी तत्व इसमें हैं भारी। दूध मलाई जो खाएगा, बलशाली वह हो जाएगा। सबसे अच्छा दूध गाय का, पीकर देखो, चखो जायका।...

  • फल खाओगे, बल पाओगे

    फल खाओगे, बल पाओगे

    फल खाओगे, बल पाओगे, सुन्दर तन का हल पाओगे काजू किशमिश और मखाने, शक्ति-पुंज हैं जाने माने एप्पल गुण की खान सुनो तुम, सबसे पहले इसे चुनो तुम छिलका सहित चबाकर खाओ, या फिर इसका शेक...


  • ये देखो मेट्रो का खेल

    नीचे   मोटर   ऊपर   रेल, ये  देखो   मेट्रो  का   खेल। कभी चले धरती के अन्दर, और कभी धरती  से ऊपर। कभी कहीं धरती पर चलकर, पहुँचाती  सबको मँजिल पर। ऑटो-मेटिक  सब सिस्टम हैं, और  सुरक्षित  इसमें  हम...

  • गाँधी जी के बन्दर तीन

    गाँधी  जी  के  बन्दर  तीन, तीनों   बन्दर  बड़े  प्रवीन। खुश हो बोला पहला बन्दा, ना मैं  गूँगा, बहरा, अन्धा।   पर  मैं  अच्छा  ही  देखूँगा, मन को  गन्दा नहीं करूँगा। तभी उछल कर दूजा बोला, उसने...