राजनीति

कांग्रेस का राष्ट्रवाद

2014 में लोकसभा का चुनाव बुरी तरह हारने के बाद से कांग्रेस और ख़ास तौर पर राहुलजी यह जानने की उत्कण्ठा दिखा रहे हैं कि कांग्रेस हारी तो हारी क्यों! तब से पाँच साल बीत गये, एक चुनाव और गया, कांग्रेस फिर हार गयी, पर वह यक्ष-प्रश्न अभी भी कांग्रेस और राहुलजी के समक्ष उसी […]

राजनीति

लो कल्लो बात ! विलक्षण भाषण !!

अनुमान लगाइए यह भाषण किसने दिया होगा! “हाल के दिनों में मैंने जो ट्वीट किये हैं, और पूरी दुनिया में जिसे फैलाने की कोशिश की है, वह है बीजेपी और नरेन्द्र मोदी की वास्तविकता। इन्होंने कश्मीर में जो किया है, उससे हम पर एक बहुत बड़ा संकट खड़ा हो गया है। दुनिया में मफ़ादात (ज़मीनें […]

गीत/नवगीत

कांग्रेसी से : आया समय लड़ाई का

घोटालों पर घोटाले कर अर्जित की जो धनराशि विपुल क्या भोग नहीं करना उसका जो पड़ा हुआ है यूँ ढुलमुल? कर याद स्वर्णयुग दल का जब था राज देश पर एकछत्र जब नोटों के बण्डल घर में बिखरे रहते थे यत्र-तत्र।। जब कोटा-परमिट-लाइसेंस का तन्त्र देश में चलता था चीनी लेने के लिए आम आदमी […]

राजनीति

शासन करने की कला

कुछ जवाहर लाल नेहरू की बेटी होने और कुछ दबंग महिला होने के कारण इंदिरा गाँधी भारत के भोले-भाले नागरिकों द्वारा लगभग देवी सी पूजी गयीं। जनता उनसे अपार प्रेम करती थी, और 1977 जैसा इंदिरा-विरोधी माहौल न बने होने की दशा में उनके चुनाव जीतने की क्षमता असंदिग्ध थी, पर शासन करने की उनकी […]

कहानी

आत्महत्या: अनन्त संभावनाओं का क्षेत्र

पिछले दिनों हरियाणा के एक मंत्री महोदय ने आत्महत्या करने वालों को कायर बता दिया. उसके बाद हमारे किसान-प्रेमी और सेक्युलर मित्र जिस बुरी तरह बेचारे मंत्री जी पर टूटे, उसने मुझे आत्महत्या और कायरता के सम्बंधों पर नये सिरे से सोचने पर मजबूर कर दिया. इस विषय पर विशेष जानकारी और नामी-गिरामी पुस्तकें उपलब्ध […]

विज्ञान

संस्कृत पर एक ठो

सबसे पहले तो विद्वानों से क्षमा-याचना, क्योंकि यह लेख ऐसे विषय पर है, जिसकी कामचलाऊ जानकारी भी लेखक के पास नहीं है. अत्यंत खेद और शर्म के साथ मैं यह स्वीकार करता हूँ कि मुझे संस्कृत नहीं आती, पर अब मैं संस्कृत सीखने जा रहा हूँ और आशा करता हूँ कि एक साल के अंदर मैं […]