बाल कविता

बाल कविता

मेरा सोना बच्चा सोएगा । मीठे सपनों में खोएगा । जहाँ लड्डू बर्फी भरे पड़े। चॉकलेट के पेड़ हैं बड़े बड़े । जहाँ दूध की नदियाँ बहती हैं , और बहुत सी परियाँ रहतीं हैं । हैं बादल कॉटन कैंडी जैसे , इन्हें खाए बगैर रहूँ कैसे । गुड्डे ,गुड़िया और टेडी बियर , मुझको […]

गीत/नवगीत

गीत

जैसे कान्हा भूल न पाये राधा की उन यादों को। प्रियतम याद हमेशा रखना प्रेम राह के वादों को! मेरा हाल हुआ राधा सा लेकिन तुम कान्हा ठहरे। मेरे हर इक अश्क से प्रियतम घाव मिले तुमको घहरे। आकर गले लगा लो मुझको, दूर करो अवसादों को। प्रियतम याद हमेशा रखना प्रेम राह के वादों […]

गीतिका/ग़ज़ल

ग़ज़ल – मोहब्बत

फूल सी ज़िन्दगानी हुई, जब मोहब्बत सुहानी हुई। जिन्दगी ठहरी ठहरी सि थी आप आए रवानी हुई । आइना नाज़ करने लगा आपकी मेहरबानी हुई। हम सनम के लिए मिट गए ये खबर क्या पुरानी हुई?? अश्क अब बह रहे रात दिन इश्क की ये निशानी हुई । बेवफ़ाई का आलम है ये। हम मिले […]

कहानी

कहानी : साहिबा

साहिबा जैसा कि नाम से ही लग रहा है सबके दिल में रहने वाली हमेशा हसने वाली और दूसरो के साथ खुद को खुश रखने वाली । जो भी चाहती उसे मिल जाता परिवार में भी सबसे छोटी होने के वजह खूब चलती ।लेकिन धीरे धीरे सब बदलने लगा और खुशियां रुठने लगीं । पहले […]

गीत/नवगीत

गीत : मेरी कहानी

वही बसा है दिल में मेरे, उससे बनी कहानी है। दिल की वो धड़कन है मेरी साँसें भी बेगानी है।। बदल रहा है जाने क्यों वो, सौतन पर दिल आया है । जाने क्या क्या बोल बोलकर, प्रियतम को भरमाया है । सुने नहीं वो बात किसी की,जादू कैसा डाला है । जीवन हुआ आज कुछ […]

कविता

श्री राम वन गमन

ताटंक छंद- वन को जाते बन सन्यासी, राम लखन अरु माँ सीता । तीनों के बिन देखो कैसा, अवध लगे रीता रीता । मात सुमित्रा अरु कौशल्या, नैना नीर बहाती हैं । सुख सब अपने साथ ले गए, खुशियाँ नहीं सुहाती हैं । दोनों भाई चलते आगे, अरु पीछे माता सीता । तीनों के बिन […]

कविता

जनक नन्दिनी

जनक नन्दीनी समझ न पायी, भाग्य लिखा जो लेख था । जीवन मे वनवास लिखा था, ये ह्रदय चाहे नेक था । पहले सीता के दामन पर, रावण ने दाग लगाया था । अग्नि परीक्षा देकर उसने, खुद को पाक बताया था । लौट अयोध्या सोचा उसने, सुख की बैरा आयी है । जीवन का […]

कविता

भइया

मुझ से जब गलती होती थी, भइया आगे होता था । भरा किताबों वाला बस्ता, भइया मेरा ढोता था । बीते वर्ष महीने कितने, याद सभी पल आते हैं । पंख लगाकर बचपन वाले, सपने सब उड जाते हैं । जब आखों में आते आसू, अपना धीरज खोता था । भरा किताबों वाला बस्ता मेरा […]

गीत/नवगीत

लिखती तुझे मनमीत है

तेरे लिए ये गीत है । लिखती तुझे मन मीत है । बस प्रेम की आहें सुनी। राहे कठिन ये क्यों चुनी । रास्ते बडे हैं सांकरे । दोनों हुए हैं बावरे । देखा न गर्मी शीत है । लिखती तुझे मनमीत है । सुन आज मेरी बात को । भूलो न काली रात को […]

गीत/नवगीत

वीर देश के मतवाले

देश के खातिर मिटने देखो खडे हैं लाखों मतवाले । हो जाए कुर्बान देश पर,वीर यहां के दिलवाले । है इतना पैगाम मेरा बस,कान खोल दुश्मन सुन ले । बुन सकता है जितने झूठे ख्वाब आज तू फिर बुन ले । छुरा पीठ मे घोप रहा ये नीति सदा अपनायी है । भारत की सेना […]