गीत/नवगीत

प्रेम राह के वादे कान्हा

जैसे कान्हा भूल न पाये राधा की उन यादों को। प्रियतम याद हमेशा रखना प्रेम राह के वादों को! मेरा हाल हुआ राधा सा लेकिन तुम कान्हा ठहरे। मेरे हर इक अश्क से प्रियतम घाव मिले तुमको घहरे। आकर गले लगा लो मुझको, दूर करो अवसादों को। प्रियतम याद हमेशा रखना प्रेम राह के वादों […]

गीतिका/ग़ज़ल

तेरी तस्वीर

ग़ज़ल / अनुपमा दीक्षित मयंक बहर- 1222 1222 1222 1222 तेरी तस्वीर मुझसे यूँ हमेंशा बात करती है बनी है आयना दिल का मेरे सँग आह भरती है। तेरा जो साथ मिल जाये मुझे क्या डर जमाने का। बिना तेरे न जाने क्यों मेरी हर साॅस डरती है। भुलाकर भी कभी दिल से तुझे ना […]

गीत/नवगीत

गीत

चहू ओर अन्धेरा छाया है ये रैना घनी अन्धेरी है। मै तेरे प्यार मे पागल हूँ । बस यही खता अब मेरी है । मै इन्तजार मे बैठी हूँ । तुम लेने मुझको आओगे । दुल्हन मुझे बनाकर अपनी । जहा पार ले जाओगे । चहू ओर अन्धेरा छाया है । ये रैना घनी अन्धेरी […]

कविता

कविता

टीस सी उठती है दिल मे हाय! मैंने ये क्या कर दिया प्रेम को अपने ही हाथो दान मैंने कर दिया साथ था जब भी वो मेरे लाख उसने मन्नते की मै प्रेम ठुकरती गयी मैने कदर ना उसकी की वो बाहो मे किसी और की मुझे याद करके रोता है सच कहू उससे भी […]