Author :



  • क्रंदन करते रिश्ते

    क्रंदन करते रिश्ते

    क्रंदन करते रिश्ते तलाश रहे नई राह टूटी माला के मोतियों से बिखर रहे हैं दूर हो रहे अपने धागे से जिसने सबको एक साथ बांधे रखा रुई की भांति हल्की हो रही हैं संवेदनाएँ और...


  • ढल जाएगी जवानी

    ढल जाएगी जवानी

    ढल जाएगी जवानी  दिल जवान होना चाहिए हर उम्र में हमें जीने का अरमान होना चाहिए कदम कदम पर खतरे हैं ज़िंदगी मे ए दोस्त खतरों को जो टाले वो निगहबान होना चाहिए इस मिट्टी ने...


  • खो ना जाना बंदे तू

    खो ना जाना बंदे तू

    दुनिया है इक भूल भुलैया, खो ना जाना बंदे तू अपने ही  पैरों  पर कांटे, चुभो ना जाना बंदे तू मिला है मौका पार लगा दे, अपनी जीवन नैया बीच समंदर है तेरी नौका, डुबो ना...

  • संवेदनहीनता

    संवेदनहीनता

    दिसम्बर का महीना कड़ाके की ठंड फुटपाथ पर रहते कुछ लोग बड़े साहसी है… आलीशान घरों मे रज़ाई के भीतर हीटर की गर्मी नहीं बता सकती है ठंड क्या होती है क्या होता है संघर्ष ये...