Author :







  • दीपावली पर विशेष लेख

    दीपावली पर विशेष लेख

    ज्योति पर्व ‘दीवाली’ भारत का एक प्रमुख उत्सव है। ‘तमसो मा ज्योतिर्गमय’ से प्रेरित ‘बहुजन सुखाय’ की आत्म ज्योति प्रज्वलित करने वाले इस पर्व को प्रायः सभी धर्मों के लोग अपनी-अपनी मान्यतानुसार राष्ट्रीय स्तर पर मनाते...


  • बाल गीत

    बाल गीत

    जैसे महका , नन्दन कानन अपनी दुनिया , अपना बचपन || गिरते – उठते , फिर गिर पड़ते डगमग – डगमग चलते रहते संभल – संभल कर बढ़ता जीवन | अपनी दुनिया , अपना बचपन ||...

  • बालगीत – “वर्षा  रानी”

    बालगीत – “वर्षा  रानी”

      वर्षा  रानी फिर बादल के रथ पर चढ़कर आई देख दहकते सूरज जी को मंद – मंद मुस्काई  | इंद्रधनुष का सतरंगी , परिधान पहन इठलाई , नीली छतरी के नीचे वह उमड़ घुमड़ कर छाई | गरज – तड़प कर के मेघों ने ऐसी धुने बजाई , खूब छमाछम नाची वर्षा , थिरके नदी तलाई | रिमझिम रिमझिम ठंडी बूंदों ने जब धार बहाई गर्मी  सारी ठंडी पड़ गई , सहमे सूरज भाई | -– अरविंद  कुमार ‘साहू’ परिचय - अरविन्द कुमार साहूसह-संपादक, जय विजयMail | More Posts (33)