Author :

  • आजादी….

    आजादी….

    बड़े संघर्षों की है ये आजादी वीर सपूत बलिदानों की है आजादी सत्य अहिंसा का एक पुजारी कस ली कमर, ठान ली हिन्दोस्तां को दिलानी है आजादी लंबा संघर्ष, रैलियां, अनसन और आंदोलन को बना हथियार...

  • अफवाह…..

    अफवाह…..

    अफवाहों का बाजार गर्म है रोटियां सेंकने वाले क्यूं नर्म हैं अरे भई! जा रही लोगों की जान है भीड़ बेकाबू है, जनता परेशान है ना ओर है, ना अंत है, बस शोर है, फिर मौत...

  • मिड डे मील

    मिड डे मील

    मिड डे मील की व्यवस्था चल रहा है पूरे देश में इसमें बच्चों को मिलता एक वक्त का पौष्टिक आहार दिन का भोजन पाठशाला में ताकि गरीब, जरूरतमंद बच्चे आ सकें प्रतिदिन विद्यालय में और पा...

  • गुजारिश….

    गुजारिश….

    आओ प्रिये! बैठो न पल दो पल साथ मेरे करनी है कुछ गुफ्तगू कुछ शिकवे हैं कुछ शिकायतें करनी है कुछ गुजारिशें सुनो न! कुछ लिखी हैं मैंने मन में उमड़ते घुमड़ते कितने ही भावों को...

  • तेरा चेहरा……

    तेरा चेहरा……

    एक अनजाना सा चेहरा कुछ धुंधला, कुछ अस्पष्ट सा लिपटा रहता है साये की तरह हर वक्त हर पल है साथ मैं तन्हां नहीं, साथ है तू एक अनजान की परछाई है तू करती है पीछा...

  • फैशनेबुल शहर

    फैशनेबुल शहर

    नशे में झूमता हुआ नींद में उंघता हुआ बदहवास सा बेकाबू हुआ शहर जाने कहां को दौड़ता शहर अधनंगी सी फैशन गजब का है ये पैशन क्या युवा, क्या अधेड़ जाम छलकाते, कश लगाते बहू बेटियों...

  • बूढ़ी आँखें…..

    बूढ़ी आँखें…..

    टिकी रहती है दरवाजे पर वो दो जोड़ी आँखें…. टकटकी लगाए देखती है हर आने जाने वाले को करती है इंतजार मेरे आने का वो दो जोड़ी आँखें….. बड़ी प्यारी है ममता भरी है स्नेह से...

  • आधुनिकता..

    आधुनिकता..

    बदलते समय में आने लगी है रिश्तों में नयापन… भुलाने लगे हैं लोग संस्कारों की अहमियत मिटने लगी है लाज, शर्म हया की लकीरें बाप बेटे आज साथ मिलकर पीते हैं बीयर बिगड़ने लगे हैं शब्दों...

  • अंतर्द्वंद

    अंतर्द्वंद

    अक्सर मौन हो जाती हुँ विचारों के उलझे प्रश्नों से जैसे मन को डसता हुआ सवाल और घायल होता जवाब कुछ हलचल मचाते शब्दों के झुंड इतना करते हैं परेशान जैसे खुली खिड़की से नजर आता...

  • प्रकृति….

    प्रकृति….

    वक्त की नजाकत को हम भी समझने लगे हैं प्रकृति को धरोहर समझने लगे हैं पेड़ लगाने लगे हैं वनोत्सव बनाने लगे हैं तालाब जलाशयों का पुनरुद्धार कराने लगे हैं आयुर्वेदिक उत्पादों का उपयोग होने लगा...