Author :


  • मेरी अभिव्यक्ति

    मेरी अभिव्यक्ति

    जो जनता को नैतिकता का पाठ पढ़ाते हैं, देशभक्ति और संस्क्रति के परिचायक हैं। अब लगता है कि सत्ता के मद में डूब गए, एक सीट को पाने में दुश्मन से खेल गये। पापी कुटिल अनाचारी...

  • कविता – परिचय

    कविता – परिचय

    दिनकर का वंशज हूँ मैं श्रृंगार नहीं गा पाउँगा। चूड़ी कुमकुम बिंदिया वाले गीत नहीं लिख पाउँगा।। मैं तो केवल गीत लिखुँगा भारत माँ के वन्दन के। मैं तो केवल गीत पढूंगा भारत माँ के अभिनन्दन...



  • वसन्त

    वसन्त

    वसन्त ऋतु का हुआ आगमन, चहुँ ओर सुरम्य हरियाली है। पेड़ों पौध लताओं में सुमन खिले, खेतों खलिहानों में कोयल कूक निराली है।। फसलों में अन्न का अंकुर फूटा, घर- घर मे फागुन की बयार रसवाली...