Author :

  • बीजू के छक्के – पिज़्ज़ा

    बीजू के छक्के – पिज़्ज़ा

    डिब्बा है चौकोर पर, खुद है गोल-मटोल काट तिकोने प्यार से, उसको पिज़्ज़ा बोल उसको पिज़्ज़ा बोल, बेस है मोटा सूखा उस पर गीली पर्त, देख ललचाये भूखा “बीजू” यह है राजकुमार इटली का भाई गोरी...

  • खट्ठा-मीठा : नये धर्म की तलाश

    खट्ठा-मीठा : नये धर्म की तलाश

    “मैं अब हिन्दू धर्म छोड़ दूँगी!” अचानक बैठे-बैठे सोच में डूबे हुए उनके दिमाग़ का कोई कीड़ा कुलबुलाया और उन्होंने उठकर ऊँचे स्वर में यह घोषणा कर डाली। बग़ल के कमरे में बैठे हुए चन्द चमचे...


  • बीजू के छक्के

    बीजू के छक्के

    दिल्ली वालों ने किया है कुछ पश्चात्ताप। कजरी को दे वोट जो किया गया था पाप॥ किया गया था पाप, विकास सब पीछे छूटा। नौटंकी नित नई देख दिल उनका टूटा॥ ‘बीजू’ कोई नहीं उड़ायेगा अब...





  • खट्ठा-मीठा : नमस्कार दांव

    खट्ठा-मीठा : नमस्कार दांव

    अपने धरतीपुत्र नेताजी मुलायम सिंह पहलवान रहे हैं। नेतागीरी से पहले वे मास्टरी और उससे भी पहले पहलवानी करते रहे हैं। उनको अनेक दांव आते ही होंगे। ढाक, धोबीपाट, घोड़ापछाड़ जैसे दांव उन्होंने खूब आजमाये होंगे।...

  • खट्ठा-मीठा : चालू मेरा नाम

    खट्ठा-मीठा : चालू मेरा नाम

    नेताजी के बेटाजी बहुत दुखी हैं। जिस चालूपन पर उनके पिताश्री और उनका कापीराइट था उनको विरोधियों ने हथिया लिया है। बेचारे को बहुत क्षोभ है कि भाजपाई बहुत चालू हैं। अब तक चालूपन पर नेताजी...