गीत/नवगीत

” आंखों बसा खुमार है ” !!.

आंखों में सूनापन छाया , दिखता नहीं करार है ! नशा प्यार का उत्तर गया जी , आंखों बसा खुमार है !! गहराई क्या नापेगें जी , ऐसे गहरे उतर गये ! हाथ पैर भी मार सके ना , सपने सारे बिखर गये ! सन्नाटे को चीर रहा बस , केवल हाहाकार है !! झेल […]

गीत/नवगीत

” देखो गगन झुकता वहां ” !!

नई राहें करे है इंतज़ार ! देखो गगन झुकता वहां !! हमने देखे , अनगिन सपने ! कितने टूटे , कितने अपने ! बुने हमने हैं सतरंगी तार ! चले हम तो हैं , खुशियों के द्वार !! देखो गगन झुकता वहाँ !! अनजानी है , राह नई सी ! बन बन बिगड़े , बात […]

गीत/नवगीत

” ऐसी जागी है जगन ” !!

ठहर जाओ बादलों ठहर जा बहती पवन ! थम सा गया है वारिधि , तेरी छवि में हो मगन !! सुर कहीं खोये हुये , साधना है भंग सी ! ठन रही मन में कहीं , है जगत से जंग भी ! मौन अधरों का निमंत्रण , प्यारी है लागे ठगन !! दूर तक ठहरी […]

गीत/नवगीत

सावन का गीत

झूले लुभा रहे हैं मन को , कहीं छिपी मनुहार है ! बाग बगीचे भरे पड़े हैं , अधर बसी तकरार है !! बरसे बदरा थके थके अब , छाई हुई बहार है ! आज गगन अठखेली करता , रंगों की भरमार है ! पसरी पसरी सी हरियाली , करती दिखे श्रृंगार है !! लिये […]

कविता

” पाखण्ड “

” पाखण्ड ” भाव जगाना हमको आता , रंग जमाने में क्या जाता ! हाथ हमारे भले कुछ नही , शरणागत वह सब पा जाता !! पढ़े लिखे हैं चाहे थोड़े , दौड़ा करते अपने घोड़े ! यहाँ धर्म की बिछा बिसातें , स्वाद जीत का पाया जाता !! मूल मंत्र हमने यह जाना , […]

गीत/नवगीत

” करता सावन है ईशारे ” !!

बदले बदले हैं नज़ारे ! करता सावन है इशारे !! अब न बादल की गरज है , अब न बिजली की कड़क है ! तरबतर है अभी सब तो , मीठी मीठी सी धड़क है ! गीत होठों पे सजे हैं , कोई मितवा को पुकारे !! सजी देखो ये धरा है , रूप कानन […]

गीत/नवगीत

” ———————— चलना है अविराम ” !!

मोह हमारा माटी से है , जीवन इसके नाम ! रूखी सूखी जो मिल जाये , चलना है अविराम !! हाड़ तोड़ मेहनत करते हैं , मौसम चाहे जो हो ! काया की परवाह किसे है , अब यहाँ कहाँ विश्राम !! सीमा पर फौजी भाई है , जान लिए आफत में ! हम किसान […]

गीतिका/ग़ज़ल

” ——————————- अपना आज बनाएं ” !!

आओ खुशियां कैद करें हम , थोड़ा सा मुस्काये ! अवसर हमने पाया है तो , नगदीकरण करायें !! जोखिम कोई नहीं उठाना , हँसना चाहो हँस लो ! सेल्फी लेना शगल बना है , अपनी जान बचाएँ !! यही झरोखे स्मृतियों के , ताज़ा दम कर देते ! खुशहाली के इन्हीं पलों को , […]

मुक्तक/दोहा

” जुगनू ” !! ( दोहावली )

जुगनू सा जीवन कहो , दप दप करती आस ! तम से लड़ना है यहां , जब तक घट में सांस !! अंधियारे के सामने , झुकते देखे शीश ! ना मांगे यह सूरमा , उजियारे की भीख !! अंधियारी सी रात हो , टिप टिप बरसे मेह ! ऐसे में दे रोशनी , जला […]

गीत/नवगीत

गीत – नशा छाया

छटपटाते बादलों ने गीत गाया , दिल में जो दुखड़ा छुपा था , कह सुनाया !! दामिनी दमकी अदा से खो गयी , यादों में गुमसुम मौसम , नज़र आया !! बरखा ने सुनी दस्तक हौले हौले , बेवफा सावन कहीं , मुस्कराया !! पछुआ हवाओं ने कोई , खींचा था आँचल , सरसराया !! […]