Author :


  • सबक

    सबक

    “बाबूजी… आपके बहू का कहना है कि हम अलग रहना चाहते हैं ..।” राघव अपने पिता गोविंद जी से कहा । “अच्छी बात है, कब अलग हो रहे हो…?” गोविंद जी अखबार पर नजर गड़ाए ही...

  • लघुकथा – गलती

    लघुकथा – गलती

    “हैल्लो भाभी….घर कब आ रही हो?” गुंजन अपने भाभी को फोन पर पूछने लगी । “साहब क्या कर रहे हैं….जो आपको फोन करना पड़ा ?” भाभी थोड़े गुस्से में बोली । “भैया….? थोड़ी देर पहले ड्यूटी...

  • सजा

    सजा

    जेल में सजा काट रहे पति ही एकमात्र घर के सहारा थे । जवान पत्नी कहाँ जाए काम करने जहाँ भी जाती लोगों के नजरों और तानों का शिकार होती । पति से जेल में मिलने...

  • उम्मीद

    उम्मीद

    ‘सब्जी वाली…. सब्जी वाली… ले लो दीदी, गोभी, भिंडी, टमाटर, धनिया, मिर्च…।’ प्रत्येक रविवार को वह सायकिल से सब्जी बेचा करती । एक रविवार धनिया लेने के बहाने उनको रोका । सब्जियों के दाम पूछा, थोड़ी...