समाचार

हिंदी की गूंज परिवार का वार्षिकोत्सव

दिल्ली, देश की अग्रणी साहित्यिक संस्था हिंदी की गूंज का 10 वां स्थापना दिवस बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस मौके पर ऑनलाइन आयोजित कार्यक्रम में संस्था की देश व विदेश में चल रही शाखाओं के शाखा प्रभारियों व सदस्यों ने हिंदी की बिंदी को विश्व के मस्तक पर सजाने के लिए किए जा […]

कविता

माँ

ज़िंदगी का मधुर गीत है वो, साँसों की साँस से प्रीत है वो, सह जाती बिन कहे सब वह, जहां की अनोखी रीत है वो | रक्त में बहता संगीत है वो , दिल का  करीबी मीत है वो । पिघलें गोद में सैलाब जिसकी,  सच्ची मुस्कुराहट की जीत है वो | लगे गर्मी तो […]

लघुकथा

लघुकथा : सिफ़ारिश

आज इंटरव्यू के बाद रमेश के चेहरे पर काफ़ी थकान और निराशा थी । वह एकदम से घर आकर किसी से कुछ न बोला और  हाथ-मुँह धोकर अपने कमरे में अपनी झूलेनुमा जालीदार चेयर पर आँखें बंद कर झूलता रहा । कब उसकी आँख लग गई उसे पता ही न चला । माँं-  “रमेश बेटा उठो […]

समाचार

“होली के रंग” कवि सम्मेलन

नई दिल्ली। देश की अग्रणी साहित्यिक संस्था हिंदी की गूंज एवं काव्य वृष्टि पटल के सयुंक्त तत्वाधान में “होली के रंग” कवि सम्मेलन ऑनलाइन आयोजित किया गया, जिसमें देश के विभिन्न भागों से प्रतिष्ठित कवियों ने अपने काव्य रूपी रंगों से सबको सराबोर कर दिया। रविवार की देर शाम तक चले कार्यक्रम का शुभारंभ डॉ […]

समाचार

कवियों ने बिखेरे होली के रंग

दिनांक 17 मार्च 2022 को होली मिलन पर विशेष काव्यगोष्ठी स्ट्रीम- यार्ड एप द्वारा विश्व कीर्तिमान प्राप्त द मैजिक मैन एन चंद्रा फेसबुक पटल एवं द मैजिक मैन एन चंद्रा के यू ट्यूब पेज़ पर आयोजित हुई । पटल पर होली मिलन समारोह सह काव्य गोष्ठी का भव्य आयोजन हुआ। यह कार्यक्रम संस्था के संस्थापक […]

समाचार

होली मिलन समारोह सह काव्य गोष्ठी

सोशल ऐंड मोटिवेशनल ट्रस्ट के तत्वावधान मे  दिनांक 13 मार्च 2022 को होली मिलन समारोह सह काव्य गोष्ठी का भव्य आयोजन हुआ। यह कार्यक्रम संस्था के सचिव जयवीर सिंह अत्री के निवास पर सम्पन्न हुआ जिसमें दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद और आसपास के जाने माने साहित्यकारों ने शामिल होकर होली पर काव्य पाठ किया। कुसुम अग्रवाल […]

सामाजिक

स्त्रीविमर्श – दम घुटता है ऐसी सोच से

सचमुच आजकल जब भी लोग पुरुष पक्ष को लेकर बस ये कह दें कि स्त्री ही स्त्री की दुश्मन है इसलिए पुरुष को दोष देना बेकार है स्त्री ही दोषी है ! ये सरासर ना इंसाफ़ी होगी । तब क्या था जब सतीप्रथा को पुरुष प्रधान समाज में नियम बनाकर लागू किया गया था ? हर […]

कविता

महा शिवरात्रि पर्व

शिव नहीं कहते कि, मैं ॐ, मैं सर्वस्व, मैं त्रिलोचन, मैं आदिशक्ति, मैं जगत विश्राम, हैं मुझमें ही चारों धाम | शिव नहीं कहते कि, मुझ शमशानवासी को, मुझ भस्मधारी को, जा मंदिरों में, दही,घी,शहद… का लेप करो, और शिवलिंग को कराओ दुग्धपान ! शिव नहीं कहते कि, नकार कर एक लाचार माँ को, मूकव्यथा […]

समाचार

वासंती काव्य संध्या में बिखरे काव्य के अद्भुत रंग

दिल्ली/हल्दौर। देश की अग्रणी साहित्यिक संस्था हिंदी की गूंज और काव्य वृष्टि पटल के संयुक्त तत्वाधान में ऑनलाइन आयोजित वासंती काव्य संध्या में कविगणों ने वासंती रंगों से सराबोर रचनाएं प्रस्तुत कर समा बांध दिया।  रविवार की शाम आयोजित कार्यक्रम का शुभारंभ माँ सरस्वती वंदना से हुआ। कार्यक्रम में ऋतुराज वसंत का स्वागत करते हुए […]

कविता

जब लौं चलत चुनाव को मौसम

जब लौं चलत चुनाव को मौसम, एनईं पछयाये फिरत जे नेता, बोटन के काजें, कुर्सी के लाजें, मीठो सीरा बनकें बेटा, चील घाईं मंडराउत नेता | जब लौं सटत न अपनों मतलब, देत प्रलोभन सांसऊं तब तक | मार-काट है इनको धंधो, कुचाल को मैलो सागर गंदो | घर-घर आएँ, बाजा बजाएँ- ‘जो बटन दबाएं […]