Author :





  • आधुनिक दहेज

    आधुनिक दहेज

    राधे श्याम का एक बेटा था, वह उसे बहुत प्यार करता था, वह चाहता था, कि उसके बेटे की शादी बहुत धूम-धाम से हो, जैसे हर पिता का अरमान होता है! राधे श्याम का बेटा आज...

  • फरेब

    फरेब

    क्या कहे तुम से की दिल भी ना जाने, मोहब्बत तो हमने भी की पर तुम ना जाने, तेरी गलियों में आकर भी ना आ सकी, क्योकी दिल तो हम भी बाजार मे ही बेच आये...

  • गुस्सा

    गुस्सा

    रेणु की काम वाली उसके घर में पिछले 4 साल से काम कर रही थी, इसलिये रेणु उसको अच्छे से भी  जानती थी। आज रेणु की काम वाली जिसका नाम सुनीता है , उसको आने में...

  • एक वेश्या

    एक वेश्या

    एक वेश्या के बारे में सोचने बैठे तो लगा आखिर इसे वेश्या कहते ही क्यों है ? आखिर क्या है सच ? वेश्या का सच थोड़ी देर बाद समझ आया कि जो नारी गरीबी के कारण...

  • मेरी कलम

    मेरी कलम

    जब से क़लम उठाई है, तब से मन करता है, कि जो लिखूँ सच लिखूँ पर दुनिया हमें ना सच लिखने देती है ना बोलने ! आखिर करूँ तो क्या ? फिर माँ ने कहा बेटा...

  • योग

    योग

    योग है, हमारे जीने का नया रास्ता, जो करें योग रहे स्वस्थ ! ना बढ़े मोटापा ना बढ़े मधुमेह ! आओ बहन योग करने चले ! सारी बीमारियों को छोड़ा कर योग चले ! तुम भी...