Author :





  • नफरत

    नफरत

    दीवारें नफरत के घरोंदों की अक्सर बनी होती हैं उन शब्दों की ईंटों से जो पकने से पहले ही गिर जाती हैं किसी की उम्मीदों के बहते पानी में। उछलती हुई बूँदें जब बिखर जाती हैं...


  • गायब हुए गाँधीजी

    गायब हुए गाँधीजी

    एक दिन नोटों में से गांधीजी गायब हो गए, नोटों की वैधता समाप्त हो गयी। राजनेता परेशान, रिज़र्व बैंक परेशान, पुलिस परेशान… और जनता, उसे कोई फर्क नहीं पड़ा क्योंकि एक भावनात्मक भाषण में राष्ट्रप्रेम के...

  • एक औरत

    एक औरत

    “काजल लगाने के बाद तुम्हारी आँखें कितनी सुंदर हो जाती हैं?” “जी, मेरे बॉस भी यही कहते हैं|” “अच्छा, तुम्हारे कपड़ों का चयन भी बहुत अच्छा है, तुम पर एकदम फिट!” “बॉस को भी यही लगता...