Author :

  • लौटना चाहता हूँ

    लौटना चाहता हूँ

    जहाँ भीड़ में भी अकेला था, न कोई अपना और न कोई पराया था मैं तो बस हंसता था, खिलखिलाता था और खुद से ही बातें किया करता था जहाँ मैं खुद से भी बेगाना था...

  • कहानी तेरी-मेरी

    कहानी तेरी-मेरी

    दिल भी टूटा था दोनों का, मालूम तुमको भी था, और मालूम हमको भी था तुमने भी कुछ खोया था और हमने भी सबकुछ खोया था फर्क बस इतना था कि घूंघट में आंखें नम तुम्हारी...



  • अधूरी कहानी:अध्याय-43: ट्रेप

    अधूरी कहानी:अध्याय-43: ट्रेप

    डिटेक्टीव समीर अपने आॅफिस में अकेले बैठा था और कातिल को पकड़ने की योजना बना रहा था तभी वहां सूरज आ पहुँचा समीर ने शायद योजना बना ली थी क्योंकि सूरज के आते ही डिटेक्टीव समीर...