Author :



  • देशभक्त नहीं हो सकते!

    देशभक्त नहीं हो सकते!

    रात दिन राष्ट्रीय के विरोध में खड़े लोग देशभक्त नहीं हो सकते! वो राष्ट्रीय में पल रहे शत्रु हैं, जो बाहरी शत्रुओं से भी ज्यादा घातक हैं! इनका शर्वनाश करना अति आवश्यक है नहीं तो ये...

  • पता नहीं क्यों?

    पता नहीं क्यों?

    पता नहीं क्यों तुमको सेना पर पत्थर मरने वाले भटके नौजवान लगते हैं. पता नहीं क्यों तुमको भारत तेरे टुकड़े होंगे बोलने वाले देश प्रेमी लगते हैं. पता नहीं क्यों तुमको राष्ट्रीयगान ना गाने वाले देश...

  • सत्य वचन

    सत्य वचन

    जिन राजाओं की संधि राष्ट्रीय के शत्रुओं के साथ हो गई हो, वो राजा राष्ट्रीय के बाहरी शत्रुओं से कहीं ज्यादा घातक हैं. ऐसे राजाओ को जनता को तुरंत निष्काषित कर देना चाहिए. क्योंकि वो राष्ट्रीय...