अन्य लेख

संकल्प 2020

परमाणु ऊर्जा विभाग से सेवानिवृत्ति के पश्चात् प्रति वर्ष समय के सकारात्मक सदुपयोग हेतु सन्कल्प लेता हूँ। प्रति सप्ताह कम से कम एक शिक्षण संस्थान में विद्यार्थियों को समय प्रबंधन एवं कैरियर चुनाव पर विचार व्यक्त करने के लिए समय देना है। हर वर्ष 75 प्रतिशत से अधिक यह सन्कल्प पूरा हो जाता है। वर्ष […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

अध्यात्म प्रबंधन (Spiritual Management)

जीवन की भाग दौड़, अस्त-व्यस्तता, तनाव, बीमारी, दुःख-परेशानी, आंधी-तूफान, समस्या-संकट के समय अध्यात्म शक्ति, साहस, ऊर्जा देता है, गलत रास्ते पर चलने से रोकता है, अंधेरे में रोशनी करता है, मार्गदर्शन देता है, उत्साह वर्धन करता है, टूटने बिखरने की स्थिति से बचाता है, अवसाद डिप्रेशन से उबारता है, रामबाण अचूक औषधि का कार्य करता […]

बालोपयोगी लेख

स्कूल की छुट्टी

लो स्कूल की छुट्टी हुई अब घर जाएंगे। बहुत तेज भूख लगी है जो मम्मी ने बनाया वही खा लेंगे। टी वि का रिमोट मम्मी से छीन कर कार्टून फिल्म देखेंगे। कुछ देर रेस्ट कर के स्कूल से मिला होमवर्क पूरा कर लेगे। स्कूल की मैडम से मिले गुड स्टार को मम्मी को बताएंगे। मैडम […]

लघुकथा

ताना बाना

एकता हेलो। उद्योग कुटीर पर प्रशिक्षण के पश्चात् बुनाई केंद्र पर आत्मनिर्भर बन कर अपनी नन्ही बिटिया शिल्पी का लालन पोषण करने का एक सकारात्मक प्रयास कर रही हूँ। ईश्वर के निर्णय से नन्ही बेटी के सिर पर अब उसके पापा की सशक्त छाया तो नहीं है  , पर , फिर भी मेरा प्रयास रहेगा […]

पुस्तक समीक्षा

पुस्तक समीक्षा – डस्ट बिन में पेड़ (बाल कहानियाँ)

मेरी एक बहन की बेटी मेरे कमरे में रखी इस पुस्तक के मुख पृष्ठ से प्रभावित होकर पुस्तक पढ़ने के लिए ले गई। कल उन बहन का फोन मिला कि उनकी बेटी को पुस्तक इतनी अधिक पसंद लगी कि वह अपने पास ही रखेगी। एक रचनाकार की पुस्तक को इससे बड़ा सम्मान एवं पुरस्कार नहीं […]

लघुकथा

फुलझड़ी

हलो बुआ! प्रणाम! हैप्पी दिवाली! जी बुआ, पापा मेरे हिस्से की दिवाली मनाने के लिए फुलझड़ी लाए। स्कूल में सुने पर्यावरण की हानि वाला उपदेश उन्हें बतलाया, तो कहने लगे कि नीति बेटी, फुलझड़ी से ध्वनि एवं वायु प्रदूषण नहीं होता। शोर एवं हवा में प्रदूषण तो बम इत्यादि खतरनाक पटाखों से होता है। फुलझड़ी […]

इतिहास

माधुरी चुप रहती थी

माधुरी माहेश्वरि बेटी! अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि! उन्नीस वर्ष पूर्व 15 अक्तूबर 2000 को तुम अनन्त यात्रा पर 23 वर्ष की अल्पायु में ही चली गई। तुम्हारे बिना दिलीप अन्कल बहुत उदास हैं। सीधी सात्विक सरल सी बेटी आज के कलुषित वातावरण में मिलना दुर्लभ है। तुम चुप रहती थी। परिवार के सदस्यों की निस्वार्थ सेवा, अन्याय […]

सामाजिक

रान्ग नम्बर

स्कूल की एक मैडम के पास एक अनजान नम्बर से फोन मिला कि मैडम जी इतना अच्छा पढ़ाती हो कि हमारी कोचिन्ग सन्स्थान तो बन्द ही हो जाएगा। अधिक से अधिक शिक्षक दिवस पर सम्मान मिल जाएगा। हम कमीशन देते रहेंगे। बस स्कूल आइए। हमारे पास विद्यार्थी भेजती रहिएगा। मैडम ने शालीनता से उत्तर दिया […]

समाचार

सत्य के प्रयोग पुस्तक का उपहार

भारत के रावतभाटा राजस्थान के राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय में परमाणु ऊर्जा विभाग के सेवानिवृत्त विचारक एवं गायत्री केंद्र बाल सन्सकार शाला के प्राचार्य दिलीप भाटिया ने गांधी जयंती पर बेटियों को राष्ट्रपिता बापू की आत्मकथा सत्य के प्रयोग की प्रति उपहार स्वरूप वितरित की। दिलीप ने बेटियों को बापू के जीवन से प्रेरित […]

लघुकथा

अनूठी रस्म

विवाह के बाद पहली करवा चतुर्थी पर पारिवारिक रस्म निभाने के लिए मेरी पत्नी मेरी माँ के लिए एक साड़ी लेकर आई। मेरी माँ ने कहा कि बहू दो साड़ी लेकर आइए। मेरी पत्नी कहना मान कर चुपचाप दो साड़ी लेकर आईं तो मेरी माँ ने कहा कि बहू मेरे पास दर्जनों साड़ी रखी है। […]