Author :

  • लघुकथा  –  सौभाग्यशाली

    लघुकथा – सौभाग्यशाली

    कोमल स्नेह। वाट्सएप पर तुम्हारा मैसेज पढ़कर बस रो पड़ी। नहीं कोमल बहन तुम अपशगुनि नहीं हो। जीजाजी की आखिरी सांस तक तुमने तन मन धन से उनकी सेवा की। सौभाग्यशाली पत्नी को ही पति की...

  • लघुकथा – मदर्स डे

    लघुकथा – मदर्स डे

    मई के दूसरे रविवार को मदर्स डे मनाने का फेशन चल रहा है। गांव में अकेली रहने वाली अपनी अम्मा को कोरियर से एक सुंदर सा कार्ड अमेजन से भिजवा दिया। पत्नी एवं बच्चों के साथ...

  • बाल कविता — छुट्टी

    बाल कविता — छुट्टी

    लो गर्मी की छुट्टी लगी। नाना जी की चिठ्ठि मिली। जल्दी से चलदो भाई। मेरा दिल बहलाना भाई। मम्मी ने अटैची जमाई। दादु ने तैयारी करवाई। रेल ने हमें सैर कराई। स्टेशन पर मौसी भाई। नाना...

  • मेरी भावना

    मेरी भावना

    श्री नवकार महामन्त्र का नित्य जप कर जिन धर्म को करूं स्वीकार। विश्व प्रेम शांति अहिंसा अपरिग्रह शाकाहार तप दान शील का करूं प्रचार।। अनित्य अशरण संसार एकत्व अन्यत्व अशुचि भावनाऐं। आस्रव संवर निर्जरा लोक बोधि-दुर्लभ...

  • प्राइस टेग

    प्राइस टेग

    कला से जीवन भर का रिश्ता जोड़ने के उद्देश्य से कैलाश सपरिवार साक्षात्कार के लिए आया था। तिलक दहेज की वही रुकावटें एवं नकारात्मक विचार। अगले दिन कैलाश को वाट्सएप पर कला का मैसेज मिला  —-...

  • लघुकथा – वाट्सएप

    लघुकथा – वाट्सएप

    वाट्सएप पर सुबह सुप्रभात एवं रात्रि में शुभ रात्रि के सन्देशों से बहुत समय नष्ट हो रहा था एवं इनकी कोई सार्थकता महसूस नहीं हो रही थी। एक सन्कल्प लिया सुबह एवं रात्रि में स्मार्ट फोन नहीं देखने...

  • लघुकथा- भरोसा

    लघुकथा- भरोसा

    जीवन की दोपहर में पत्नी की मृत्यु से मुझे बुढापे की चिंता होना स्वाभाविक थी। इकलौती सन्तान बेटी के विवाह के पश्चात् सुरक्षा के लिए ओल्ड एज होम की सूचना एकत्रित कर रहा था। एक दिन डाक में...



  • कार

    कार

    कैलाश विवाह के लिए जया के यहाँ परिचय हेतु मिलने के लिए गया। दोनों ही एक दूसरे से बहुत प्रभावित हुए। स्वीकृति तो हो ही गई। विदा के समय जया के पापा ने कैलाश का आभार व्यक्त करते...