Author :

  • देश प्रेम

    देश प्रेम

    देश प्रेम की सभी बच्चों में आग तो देखो। देश प्रेम की कभी बजाकर राग तो देखो।। हर तरफ लगी है होड़ सत्ता हथियाने की । कौन कर रहा शतरंजी गुणा भाग तो देखो।। किस पर...

  • जाने कहाँ गायब हो गई इंसानियत।।

    जाने कहाँ गायब हो गई इंसानियत।।

    होती है खूब देखकर अब हैरानियत जाने कहाँ गायब हो गई इंसानियत।। व्याकुल है मन बहुत,बेदर्द ज़माने से कोई तो लौटाये दिलो में मासूमियत।। प्रेम स्नेह अनुराग अपनत्व को समझे ढूंढ रहा हूँ मैं तो अब...