Author :




  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    वो कितना टूटा होगा ? जो मेरा सपना होगा । जिसका दिल बेजार हुआ सोचों वो कैसा होगा ? अश्क छुपा कर लोगों से वो तनहा रोया होगा । तुलसी तो तुलसी होगा रतना! तेरा क्या...


  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    जिंदगी है खफा, कई दिन से । तू कहाँ है बता, कई दिन से ? किसी के ख्वाब सुलगते होंगे, हर तरफ है धुआँ, कई दिन से। रात को नीँद नही आती है, दिल नही लग...