Author :

  • गजल

    गजल

    वक्त ने ,हाय ! ये क्या से क्या कर दिया ? देके शोहरत, मुझे गुमशुदा कर दिया । खेल ऐसा किया ,मैं ठगा रह गया , दूर मंजिल, कठिन रास्ता कर दिया । कल्पना बाँध दी,...


  • गजल

    गजल

      दूर चला जा ,ऐ मौसम ! शहनाई का । फिर से मैं दीदार करूँ तन्हाई का । नव बसंत! आगमन तुम्हारा मंगल हो, क्या लाये हो समय मेरी तरुणाई का ? कोयल, भौरें , मदन,...


  • घनाक्षरी

    घनाक्षरी

    भक्ति जो करे तो मीराबाई बन जाये नारी , कोप जो करे तो रणचंडी बन जाती है । तोड़ती मिथक सारे नारी शक्ति नित्यप्रति, कल्पना बने तो अंतरिक्ष तक जाती है । नारी है तो सृष्टि...


  • गजल

    गजल

    नैन राहों पे बिछाये रखना ! ख्वाब पलकों पे सजाये रखना ! नींद की भीड़ में न खो जाये , ख्वाब को उँगली थमाये रखना ! झूठ कितनी भी कोशिशें कर ले, सच को सीने में...

  • गजल

    गजल

    पीढ़ियों से भेद का उपहार है । क्या यही समभाव का अधिकार है ? मार कर प्रतिभा प्रगति की सोचता, बोल क्या तू मानसिक बीमार है ? नाम से वह घाव कर सकती नही, बेअसर है...

  • कुंडलियां

    कुंडलियां

    १:/ भारत का दर्शन,गणित,ज्योतिष और विज्ञान । कभी विश्व में थे यही ,भारत की पहचान । भारत की पहचान,विश्वगुरु देश हमारा । कहाँ खो गया वह प्रतिभा का सागर सारा ? प्रतिभाओं का हनन,राष्ट्र को करता...