Author :








  • उससे बोलो

    उससे बोलो

    उससे बोलो वो मनमानी बंद करे काली करतूतें भी यानी बंद करे । हमें पता है डोरे डाल रहा है वो मीठी-मीठी बात पुरानी बंद करे। नहीं काम चलता झूठे आश्वासन से मुहर लगाये बात ज़ुबानी...


  • ग़ज़ल : उधर देखा

    ग़ज़ल : उधर देखा

    उधर देखा, कभी खु़द की तरफ़ देखा नहीं मैंने नफ़ा, नुक़सान क्या होगा कभी सोचा नहीें मैने। मुझे भी हर तरह से जाल में फाँसा गया लेकिन ज़मीर अपना किसी क़ीमत पे भी बेचा नहीें मैने।...